लालगंज (वैशाली), संवाद सूत्र। लालगंज-हाजीपुर मुख्य सड़क में नामीडीह गांव के एक मकान में छापेमारी कर पुलिस ने भारी मात्रा में नकली दवा और सैनिटाइजर (Fake medicine and sanitizer) बरामद किया है। इनमें कई ब्रांडेड कंपनियों (Branded Companies) के नाम पर बनाए गए नकली उत्‍पाद शामिल हैं। हद तो यह क‍ि नकली जीवनरक्षक दवाओं (Life Saving Drugs) का भी कारोबार यहां चल रहा था।इस आशय के आरोप को लेकर राजू कुमार नामक व्‍यक्ति पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। 

ब्रांड प्रोटेक्‍शन सर्विसेज के अधिकारी ने की थी शिकायत 

बताया जाता है कि लालगंज थाने की पुलिस को ब्रांड प्रोटेक्शन सर्विसेज प्राइवेट लिमटेड (Brand Protection Services Pvt Ltd) के अधिकारी अंजनी कुमार ने सूचित किया था कि इंडिया के नामी ब्रांंड के नाम की नकली सामग्री तैयार की जा रही है। इनमें टोरेंट फार्मा, इंटास, एलकेम जैसी ब्रांडेड कंपनियों की सामग्री शामिल हैं। ये सभी उनकी क्‍लाइंट कंपनियां हैं। कली हैंडवाश, सैनिटाइजर और स्प्रे तैयार कर स्थानीय बाजार से लेकर दूसरे जिलों में भी उसकी सप्लाई की जा रही है। सूचना पर थानाध्यक्ष सीबी शुक्ला ने पुलिस टीम के साथ नामीडीह स्थित अवधेश कुमार सिंह के मकान में छापेमारी की। वहां से लाखों रुपये के नकली मेडिकल प्रोडक्ट बरामद किए गए।

भारी मात्रा में नकली सामग्री जब्‍त 

पुलिस ने बताया कि नकली प्रोडक्ट का कारोबार राजू कुमार नामक व्यक्ति कर रहा था। वह हाजीपुर नगर थाना क्षेत्र के मड़ई मोहल्ले के लखन यादव का पुत्र है। इस दौरान यहां से कई नकली जीवन रक्षक दवाएं भी जब्त की गई है। इनमें लेवेरा सोल्यूशन, टॉक्सिमो, पैंटोसिड-20, डायक्लोमाल आदि अनेक नकली दवाएं भी मिली हैं। मालूम हो कि लालगंज क्षेत्र में पिछले कुछ दिनों के अंदर यह दूसरी बड़ी छापेमारी है, जिसमें भारी मात्रा में नकली मेडिकल सामग्री बरामद की गई है। ऐसी कार्रवाई से लोग सकते में हैं। उनका कहना है कि आखिर कैसे कोई नकली-असली में फर्क महसूस करे।