पटना। बुडको एमडी अभिषेक ने कहा है कि इस साल के अंत तक गंगा में एक बूंद गंदा पानी नहीं गिरेगा। फिलहाल नमामि गंगे योजना के तहत पटना में छह एसटीपी में से तीन एसटीपी काम कर रहे हैं। पहाड़ी एसटीपी का ट्रॉयल रन किया जा रहा है। इसमें अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है।

बुडको एमडी अभिषेक सिंह ने शुक्रवार को पटना के एसटीपी का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि 2022 के अंत तक सभी एसटीपी बनकर तैयार हो जाएंगे। एमडी ने बताया कि अगले 30 साल की आबादी को ध्यान में रखकर एसटीपी का निर्माण कराया जा रहा है। बेउर एसटीपी को वर्तमान में आठ एमएलडी, सैदपुर एसटीपी सात एमएलडी और कर्मलीचक एसटीपी सात एमएलडी पानी के साथ संचालित किया जा रहा है। नेटवर्क को अप्रैल माह तक पूर्ण करने का लक्ष्य दिया गया है। कंकड़बाग और दीघा एसटीपी और नेटवर्क कार्य के निर्माण में तेजी ला दी गयी है। एमडी ने निर्देश दिया कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की गाइडलाइन को ध्यान में रखकर एसटीपी के आसपास प्लांटेशन और ग्रीन एरिया विकसित करें। नेटवर्क को टैग कर सभी इलाके का पानी एसटीपी तक लाया जाए। निरीक्षण के दौरान कर्मलीचल और बेउर एसटीपी में पौधरोपण किया गया। --- संप हाउस का भी किया निरीक्षण --- बुडको एमडी संप हाउसों का भी निरीक्षण किया। गोसाई टोला संप, कुर्जी संप, राजबंशी नगर, पुनाइचक, गर्दनीबाग संप का की स्थिति भी देखी। निर्देश दिया कि इनलेट और आउटलेट के रास्ते की बाधाएं दूर की जाए। पंप को पर्याप्त मात्रा में पानी मिलने की व्यवस्था की जाए। पुनाइचाक, गर्दनीबाग, राजबंशी नगर सहित तमाम इलाकों में जलजमाव की समस्या उत्पन्न नहीं होनी चाहिए। ---बस स्टैंड के डी ब्लाक का कार्य जल्द पूरा करने का निर्देश--- एमडी सिंह ने पाटलिपुत्र बस टर्मिनल का दौरा किया। उन्होंने डी ब्लाक के कार्य में और तेजी लाने का निर्देश दिया। ड्राइवर डोरमेट्री और मेन सड़क से बस टर्मिनस के फ‌र्स्ट फ्लोर जाने के लिए फ्लाई ओवर सहित चार ब्लाक में से तीन का कार्य पूर्ण हो गया है।

Edited By: Jagran