पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने एक बार फिर राजद को निशाना बनाया है। उन्‍होंने शनिवार को कहा कि राजद के स्वयंभू राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के साथ उनके चार-चार सिपहसलार मो. शहाबुद्दीन, राजवल्लभ यादव, इलियास हुसैन और प्रभुनाथ सिंह हत्या, बलात्कार व भ्रष्टाचार के संगीन मामलों में जेल में बंद हैं। जो पार्टी जेल से चलती हो, जिसके सारे फैसले जेल से लिये जाते हों, उम्मीदवारों के नाम जेल से तय होते हों, क्या वैसी पार्टी के उम्मीदवारों की जमानत जनता को जब्त नहीं करा देनी चाहिए? 

पांच-पांच नेता जेल में हैं

मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में हाथी पर चढ़ कर जेल जाने वाले लालू यादव ने न केवल भ्रष्टाचार को बल्कि शहाबुद्दीन जैसे दुर्दांत अपराधी को संरक्षण देकर अपराध कर्म को भी महिमामंडित किया। बलात्कार के आरोपित राजवल्लभ यादव से घंटों एकांत में बातचीत करने से भी लालू को परहेज नहीं रहा। आज पार्टी के पांच-पांच नेता जेल में हैं, फिर भी किसी को पार्टी से निकालने की बात कौन कहे, पद से हटाने तक की हिम्मत किसी में नहीं है। 

राजद तब न सुधरा और न अब सुधरनेवाला है

उन्होंने कहा कि जिस पार्टी का अध्यक्ष ही भष्टाचार के चार-चार मामलों में सजायफ्ता हो, जिसकी राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य तिहरे हत्याकांड सहित हत्या, अपहरण के अनेक मामलों में वर्षों से जेल में बंद हो, जिसके विधायकों की सदस्यता कोर्ट से सजा मिलने के बाद समाप्त की गई हो, ऐसी पार्टी से जनता उम्मीद भी क्या कर सकती है। भ्रष्टाचार और अपराध में आकंठ डूबा राजद न तब और न अब सुधरने वाला है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Thakur