पटना [राज्य ब्यूरो]। फरक्का बराज से जलस्राव कम होने की वजह से बिहार के 12 जिलों में उत्पन्न बाढ़ का संकट फिलहाल टल गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस संकट के बार में दो दिनों पहले केंद्र को जानकारी दी थी। अब बराज से अधिक पानी का डिस्‍चार्ज किए जाने के कारण गंगा में जल स्‍तर घट रहा है।

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव को बताया था कि अगर फरक्का बराज से डिस्चार्ज बढ़ाया नहीं गया तो वैसे जिलों में बाढ़ आ जाएगी जहां गंगा बह रही है। मुख्यमंत्री की पहल के बाद केंद्र सक्रिय हुआ। सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह बताया कि फरक्का से 16 लाख क्यूसेक का डिस्चार्ज कराया जा रहा है। पहले डिस्चार्ज 13 लाख क्यूसेक से भी कम था। सोमवार को 18 लाख क्यूसेक डिस्चार्ज पर सहमति बनी थी।

सोमवार को राज्य के जल संसाधन मंत्री संजय झा ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शक्तावत से मुलाकात कर फरक्का के मसले पर बातचीत की। झा ने बताया कि इस दौरान केंद्रीय जल आयोग की के अधिकारी भी मौजूद थे। आयोग ने स्वीकार किया कि गाद के चलते फरक्का बराज से जलस्राव बाधित है। आयोग की टीम भी बराज स्थल पर पहुंची है। उन्होंने कहा कि टीम की रिपोर्ट के बाद जरूरत हुई तो जलस्राव बढ़ाया जाएगा।

जल संसाधन विभाग के संबंधित अधिकारी ने बताया कि विभाग के इंजीनियरों की टीम फरक्का में कैंप कर रही है। नियमित रूप से डिस्चार्ज की जानकारी ली जा रही है। फरक्का बराज कंट्रोल बोर्ड के साथ समन्वय का जिम्मा भी इंजीनियरों की टीम को दिया गया है। 19 सितंबर को इस समस्या के बारे में केंद्रीय जल आयोग व जलशक्ति मंत्रालय को भी लिखा गया था पर बात नहीं बन पाई थी।

और कम होगा गंगा का जलस्तर

जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को गंगा के जलस्तर में और कमी आएगी। सोमवार को इलाहाबाद में गंगा के जलस्तर में चालीस सेमी की कमी आई। वाराणसी में भी गंगा का जलस्तर कम हुआ। सोमवार को बक्सर में गंगा का जलस्तर तीन सेमी बढ़ा जरूर पर मंगलवार से वहां भी जलस्तर कम होना शुरू हो जाएगा।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप