style="text-align: justify;"> कटिहार [जेएनएन]। आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में कटिहार की अदालत ने केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के खिलाफ गैर जमानतीय वारंट जारी किया है। आचार संहिता उल्‍लंघन मामले में आरोप पत्र गठन के लिए वे हाजिर नही हुए। इसके बाद अदालत ने यह कार्रवाई की।
गुरुवार को अवर न्यायाधीश सह एसीजेएम रवि कुमार की अदालत ने कुशवाहा की जमानत रद कर उनके खिलाफ गैरजमानतीय वारंट जारी कर दिया। इसके पहले उन्‍होंने 24 अप्रैल 2017 को कटिहार न्यायालय में उपस्थित होकर जमानत करायी थी। यह मामला आरोप गठन पर लंबित था। लेकिन, केंद्रीय राज्यमंत्री के अधिवक्ता लगातार तीन तिथियों से उपस्थिति के लिए न्यायालय से समय ले रहे थे।
मामले में सुनवाई के दौरान उनके वकील ने न्यायालय में उपस्थिति के लिए समय मांगा। इसी मामले के एक और आरोपी मदन मोहन निषाद न्यायालय में उपस्थित थे। पर, कुशवाहा के नहीं आने के कारण आरोप गठन नहीं हो पाया। न्यायालय ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए केंद्रीय राज्यमंत्री की जमानत रद करते हुए उनके विरूद्ध गैर जमानतीय अधिपत्र निर्गत करने का आदेश दिया।
बताते चलें कि आचार संहिता उल्लंघन की घटना को लेकर 14 मार्च 2009 को मामला दर्ज कराया गया था। कृषि उत्पादन बाजार समिति के गेट पर अवैध रूप से पोस्टर लगाने को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई थी।
 

By Kajal Kumari