जागरण टीम, पटना। एक तरफ बिहार में जहां कोरोना के मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है तो वहीं गर्मी की धमक के साथ ही उत्तर बिहार के कई जिलों में AES (एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम) का कहर शुरू हो गया है। गुरुवार को एसकेएमसीएच के पीआइसीयू वार्ड में भर्ती दो और बच्चों में एईएस की पुष्टि हुई है। चमकी बुखार से पीड़ित वैशाली के परमानंदपुर के अनुराग (6 वर्ष) व शिवहर तरियानी के रौशन कुमार (13 वर्ष) को मंगलवार को भर्ती कराया गया। दोनों की जांच रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है। इसके साथ ही उत्तर बिहार में पीड़ितों की संख्या 23 पहुंच गई है।

पिछले 24 घंटे में कोरोना के 11 नए मरीज मिले, आंकड़ा पहुंचा 83

तो वहीं दूसरी तरफ बिहार में कोरोना वायरस मरीजों में लगातार इजाफा हो रहा है। पिछले 24 घंटे में राज्य में 11 कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं जिसके साथ ही राज्‍य में अब तक पॉजिटिव केस की संख्या 83 पहुंच चुकी है। बता दें कि इसमें 37 मरीजों ने कोरोना पर विजय पाई है तो वहीीं मुंगेर के एक कोरोना पॉजिटिव युवक की पूर्व में मौत हो चुकी है।

मुंगेर फिर से बना कोरोना का नया हॉटस्पॉट

सिवान के साथ ही बिहार का मुंगेर जिला अब सबसे हॉट स्पॉट वाला जिला बन चुका है, जहां एक बार कोरोना की चेन टू्टने के बाद फिर से 9 नए मरीजों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है, जो एक ही परिवार के हैं और एक ही मरीज के संपर्क में आने से संक्रमित हुए हैं। इन मरीजों में 6 माह की बच्ची भी कोरोना संक्रमित पाई गई है।

इस परिवार से जुड़े और भी लोगों का सैंपल्स लिया गया है जिसकी रिपोर्ट आना बाकी है।

बता दें कि बिहार का पहला मरीज भी इसी जिले का था जिसकी कोरोना रिपोर्ट तब मिली जब उसकी मौत हो चुकी थी, लेकिन उससे पहले उसने 14 लोगों को संक्रमण का शिकार बना दिया था। उसके बाद उस चेन के सभी मरीजों के इलाज के बाद जांच रिपोर्ट निगेटिव आने से सबको अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

चमकी बुखार से पीड़ित नौ बच्चे किए गए भर्ती

वहीं बात करें चमकी बुखार की तो इस सीजन में मुजफ्फरपुर में तीन, पश्चिम चंपारण, वैशाली व शिवहर में एक-एक और पूर्वी चंपारण में 17 मामले सामने आ चुके हैं। इसमें मुजफ्फरपुर के सकरा प्रखंड निवासी एक बच्चे की मौत हो चुकी है, जबकि 12 बच्चों को स्वस्थ होने पर अस्पतालों से छुट्टी दी जा चुकी है। एसकेएमसीएच व पूर्वी चंपारण के मोतिहारी सदर अस्पताल के पीकू वार्ड में पांच-पांच पीड़ितों का इलाज चल रहा है।

एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ. सुनील कुमार शाही ने बताया कि पीआइसीयू कक्ष में अब तक एईएस से पीड़ित नौ बच्चे भर्ती हुए हैं। इसमें पांच का इलाज चल रहा है। वहीं तीन को स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। जबकि एक की मौत इलाज के दौरान हो गई थी। उधर, मोतिहारी सदर अस्पताल में 14 बच्चों को भर्ती किया गया था। इसमें से नौ बच्चे स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस