नालंदा, जेएनएन। CoronaVirus: कोरोना वायरस के खौफ ने लोगों को हिंसक भी बना दिया है। लोग महज शक के आधार पर किसी की भी पिटाई करने से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला नालंदा जिले के बिहार थाना क्षेत्र के खंदकपर मोहल्ले में सामने आया है। वहां लोगों ने कोरोना संक्रमण के शक में एक युवक को पहले लाठी से पीटा, फिर अस्पताल भिजवा दिया। इसके पहले नालंदा के ही सिलाव में भी लोगों ने कोरोना संक्रमित होने के शक में एक अन्‍य युवक की जमकर पिटाई कर दी थी। ऐसी कुछ घटनाएं राज्‍य के अन्‍य इलाकों में भी हुई हैं।

मोहल्‍लेवासियों ने भेजा अस्‍पताल, भाग आया

मिली जानकारी के अनुसार नालंदा के बिहार थाना अंतर्गत खंदकपर मोहल्ले का निवासी लोहा सिंह ठेला चलाता है। वह मानसिक रूप से कमजोर है और अकेले ही रहता है। बीते कुछ दिनों से उसके बीमार होने के कारण मोहल्लेवासियों ने उसे सदर अस्पताल भिजवाया, लेकिन वह वहां से भाग निकला।

पहले जमकर पीटा, फिर इलाज के लिए भेजा

बीते रविवार को लोगों ने उसे देखकर फिर अस्‍पताल भेजने के लिए एंबुलेंस बुलवाया, लेकिन वह अस्पताल जाने को तैयार नहीं हुआ। इससे लोगों का आक्रोश भड़क गया। मोहल्ले के एक युवक ने उसकी लाठी से पिटाई कर दी। अन्‍य लोगों ने भी उसका साथ दिया। फिर, उसे अस्पताल भेज दिया। मोहल्‍ले के लोगों को उसके कोरोना संक्रमित होने की आशंका है।

घटना की जांच कर रही पुलिस: थानाध्‍यक्ष

घटना की बाबत थानाध्यक्ष दीपक कुमार ने बताया कि युवक बीमार था। उसके इलाज के लिए मोहल्लेवासी चिंतित थे। उसे पावापुरी मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल भेजा गया है। थानाध्‍यक्ष ने बताया कि मारपीट की बात संज्ञान में आई है, जिसकी जांच की जा रही है।

लोगों से कानून हाथ में नहीं लेने की अपील

कोरोना संक्रमण की आशंका में हिंसा की इस घटना की अनेक स्‍थानीय लोगों ने निंदा की। उन्‍होंने माना कि इस हिंसा के दौरान भी तो फिजि‍कल डिस्‍टेंसिंग का नियम टूटता है। लोगों ने कहा कि अगर किसी व्‍यक्ति के संक्रमित होने की आशंका हो तो संबंधित पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों को सूचित करना चाहिए। इस तरह कानून हाथ में लेकर हिंसा करना उचित नहीं है।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस