पटना, जेएनएन। बिहार की राजधानी पटना में बुधवार को स्वास्थ्य विभाग ने एक साथ दो दिनों की कोरोना जांच रिपोर्ट जारी की। इसमें 22 जुलाई को 190 तो 21 को 117 नए संक्रमित मिले। इस तरह से एक दिन में कोरोना के कुल मामले 307 हुए। वहीं बिहार में एक साथ 1625 संक्रमित मिले। राज्य में कोरोना के कुल मामले 31691 हो गए हैं। पटना में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 4786 हो गया है। पटना कोरोना पॉजिटिव मिलने के मामले में टॉप पर बना हुआ है। कोरोना से पटना में अबतक 33 से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है। इस बीच एम्स में संविदा पर बहाल नर्सिंग स्टाफ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। इस वजह से मरीजों का इलाज नहीं हो पा रहा है। बताया जाता है कि सुबह से ही इलाज के लिए आने वालों को लौटा दिया जा रहा है।

पटना में निजी अस्पतालों में भी हो सकेगी कोरोना जांच

नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में गुरुवार को बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय पहुंचे। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अगले तीन-चार दिनों में राजधानी के कई निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज शुरू हो जाएगा। जिला प्रशासन द्वारा निजी अस्पतालों को चिह्नित किया गया है। अस्पताल प्रबंधन द्वारा कोरोना मरीजों के इलाज के लिए आवश्यक संसाधनों की व्यवस्था की जा रही है।नस्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अस्पताल में 447 बेड उपलब्ध है। 167 बेड पर पाइप लाइन से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है। 650 सिलेंडर अस्पताल में उपलब्ध है। शनिवार से सभी बेड पर पाइपलाइन के जरिए ऑक्सीजन की सप्लाई होने लगेगी। इसके लिए बीएमएसआईसीएल को निर्देशित किया गया है।

बैंक ऑफ इंडिया के मैनेजर समेत छह संक्रमित, सील की गई शाखा

बैंक ऑफ इंडिया की नौबतपुर की एक शाखा के प्रबंधक व पांच लिपिक संक्रमित मिले हैं। बैंककर्मियों की रिपोर्ट आने के बाद शाखा सील कर दी गई। यहां एक सप्ताह पूर्व एक कैशियर की तबीयत बिगड़ी थी। जांच में उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद कर्मियों के सैंपल जांच के लिए लिए गए थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021