पटना, जेएनएन। बिहार में कोरोना के 11 वें मरीज की मौत कन्फर्म हो गई है। वैशाली केकारेंटाइन सेंटर में एक युवक ने कल ही आत्महत्या कर ली थी और आज उसकी कोविड की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। वह युवक वैशाली के पटेढ़ी बेलसर के जारंग रामपुर गांव का रहनेवाला था। 

बुधवार को हाजीपुर सदर थाना क्षेत्र में राजकीय आंबेडकर आवासीय बालिका छात्रावास में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में एक प्रवासी कामगार ने खुदकशी कर ली थी। घटना बुधवार की शाम करीब साढ़े पांच बजे के आसपास की है।

मृतक 35 वर्षीय राजेश महतो बेलसर ओपी क्षेत्र के जारंग गांव निवासी जोगी महतो का पुत्र था और पुणे में बिजली मिस्त्री का काम करता था। इस घटना के बाद क्वारंटाइन सेंटर में अफरा-तफरी मच गयी और घटना की सूचना प्रशासन को दी गयी।

सूचना मिलते ही प्रशासन में भी हड़कंप मच गया और सदर एसडीएम संदीप शेखर प्रियदर्शी, एसडीपीओ राघव दयाल सहित कई पदाधिकारी मौके पर पहुंच गए। प्रवासी युवक अपने गमछे से फंदा लगाकर झूल गया और उसकी मौत हो गयी। 

मिली जानकारी के अनुसार इस क्वारंटाइन सेंटर में 24 प्रवासी कामगार रखे गए हैं। सभी सरकारी स्तर पर दूसरे राज्यों से लाए गए हैं। राजेश महतो भी वहीं था। बताया जा रहा है कि पुणे से आया था। हालांकि एक चर्चा यह भी है कि वह दिल्ली से आया था।  अफरा-तफरी के बीच सदर सीओ केके सिंह भी यह स्पष्ट नहीं कर पा रहे थे कि राजेश महतो कहां से आया था?

घटना की सूचना मृतक के परिजनों को दी गयी। पुलिस शव को जब्त कर सदर अस्पताल ले आई। प्रशासन की ओर से यह जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गयी कि क्या राजेश मानसिक रूप से तनाव में था। वह तीन दिन पहले ही आया था। उसे घर वालों ने क्वारंटाइन में जाने के लिए कहा था। उसे बेलसर में क्वारंटाइन किया गया। उसकी तबीयत खराब होने पर मेडिकल टीम हाजीपुर सदर अस्पताल लाई और सैम्पल लेकर  आंबेडकर आवासीय बालिका विद्यालय में क्वारंटाइन कर दिया। बताया जा रहा है कि बुधवार को भी उसने मोबाइल से अपने स्वजनों से बात की थी। 

 

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस