पटना, जागरण टीम। बिहार में कोरोना का कहर गुरुवार को जारी रहा। इसका दायरा इतना बढ़ गया कि सिवान व बेगूसराय के कुछ इलाकों में हॉट स्‍पॉट बनाकर कार्यवाही की जा रही है। सिवान, बेगूसराय व नवादा में कोरोना के 19 पॉजिटिव केस सामने आ गए। सीएम नीतीश कुमार ने आवश्‍यक बैठक कर अधिकारियों के निर्देश दिए। कहा, बाहर से आए लोग ट्रैवल हिस्‍ट्री को न छिपाएं। वहीं, नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने तीन माह तक बिजली बिल माफ करने को कहा। कोरोना राउंडअप में पढ़ें गुरुवार की दिनभर की खबरें।    

कोरोना पाॅजिटिव मरीजों की संख्या पहुंची 58, 19 नए मरीज 

पटना। बिहार में कोरोना के मामले बढ़कर अब 58 हो गए। गुरुवार को 19 नए मरीज की पुष्टि हुई है। सिवान में एक ही परिवार के नौ पॉजिटिव मिले हैं। परिवार का एक सदस्य ओमान से आया था। इनमें चार महिलाओं की उम्र 29, 26, 18 और 12 वर्ष है। तीन अन्य महिलाओं की उम्र 50, 12 और 20 वर्ष है। इसी परिवार के संक्रमित मिले दो पुरुषों की उम्र 30 और 10 वर्ष है। गुरुवार को दो अन्य पॉजिटिव बेगूसराय में मिले।वहीं एक मरीज नवादा में मिला।  

सीवान, बेगूसराय व नवादा के कई इलाकों की सीमाएं सील

पटना। सिवान और गोपालगंज को हॉट स्पॉट मानकर इनकी सीमाओं को पूरी तरह सील कर दिया गया है। मुख्य सचिव दीपक कुमार ने इस संबंध में कहा कि पुलिस महकमे को अलर्ट कर पूरी स्थिति पर नजर रखने को कहा गया है। वहीं, डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि जिन इलाकों को सील किया गया है, वहां कर्फ्यू जैसी स्थिति रहेगी। 

बेगूसराय के कोरोना प्रभावित इलाके में SDRF की टीम बेगूसराय के लिए रवाना

पटना। SDRF वाहिनी मुख्यालय बिहटा से इंस्पेक्टर दीपक झा के नेतृत्व में 6 सब टीम रवाना हुई। ज्ञात हो कि 11 जिलों में SDRF की पूर्व से तैनात टीमों को कोरोना वायरस के जैविक आपदा से निबटने के लिए उपकरण, प्रोटेक्शन सूट, decontamination केमिकल्स, मास्क, गल्पस तथा स्प्रे मशीन से लैस किया गया है। बिहटा मुख्यालय से SDRF के रिजर्व टीम को बेगूसराय में कोरोना के 3 पॉजिटिव केस पाए जाने  के मद्देनजर राज्य  प्रशासन ने लगाने का फैसला लिया है। SDRF के कार्मिकों को गत एक माह के दौरान NDRF के प्रशिक्षण दल के द्वारा कोरोना जैसी जैविक आपदा में रिस्‍पांस करने का प्रशिक्षण दिया गया है। इतना ही नहीं, SDRF की 2 टीम रिजर्व में है, जिसे आपदा प्रबंधन विभाग के आदेश के उपरांत प्रभावित जिलों में भेजा जाएगा।

खांस व छींक कर डराने वालों से सख्ती से निपटेगी बिहार पुलिस

पटना। कोरोना का खौफ दिखाकर पुलिस को डराने वालों की अब खैर नहीं। पुलिस ने ऐसे लोगों से सख्ती से निपटने का निर्णय लिया है। अब पुलिस के पहुंचने पर जानबूझ कर खांसने व छींक कर डराने वालों को दबोच लिया जाएगा। पुलिसकर्मियों को पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट्स (पीपीई) किट मुहैया करा दी गई है। ऐसे में अब क्वारंटाइन सेंटर, आइसोलेशन वार्ड और अस्पतालों में तैनात पुलिस पीपीई किट से लैस नजर आएगी। पुलिसकर्मियों के साथ कई जिलों में घटी अशोभनीय घटना के बाद यह पहल की गई है। इसी कड़ी में किशनगंज के एसपी कुमार आशीष ने तो बाकायदा पीपीई किट से लैस क्विक रिस्पॉन्स टीम का गठन कर दिया है। टीम में महिला पुलिसकर्मियों को भी शामिल किया गया है। 

कोरोना जांच में लापरवाही पर दो अधिकारियों पर गाज

पटना। बिहार सरकार ने गुरुवार को कोरोना के खिलाफ जारी जंग में सहयोग न करने  के आरोप में दो डाॅक्टरों पर कार्रवाई की है। पीएमसीएच के माइक्रोबायलोजी विभाग के एसएन सिंह को कोरोना की जांच में ढिलाई बरतने पर निलंबित कर दिया गया है। वहीं, गया के बाराचट्टी के मेडिकल आफिसर शिव शंकर झा को लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। 

लाॅकडाउन में निकले तो हो सकती है दो साल की जेल

पटना। कोई भी व्यक्ति यदि लाॅकडाउन का उल्लंघन कर घर से बाहर निकलता है तो उसे छह माह से लेकर दो साल की जेल हो सकती है। आइपीसी की धारा 188 में ऐसे प्रावधान हैं। अब सरकार ने इसका कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराने का निर्णय लिया है। इसे लेकर सरकार की ओर से दोबारा पत्र जारी किया गया है। आदेश में साफ कहा गया है कि लॉकडाउन का उल्‍लंघन किसी भी हालत में नहीं हो। उल्‍लंघन करने वालों पर कार्रवाई हो। 

अगर जमाती निकला पॉजिटिव तो पूरे इलाके की होगी जांच

बिहार में बुधवार को मिले 38 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव के जमाती होने को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने संबंधित के बारे में जानकारी जुटानी शुरू कर दी है। नवादा के जिलाधिकारी और सिविल सर्जन को काम सौंपा गया है। पता किया जा रहा है कि कहीं वह दिल्ली में तब्लीगी मरकज में तो शामिल नहीं था। इसकी ट्रैवल हिस्ट्री निकाली जा रही है। मोकामा में पकड़े गए नौ तब्लीगियों को लेकर भी स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है। 

कोरोना मुक्त जिलों को मिल सकती है राहत

पटना। बिहार सरकार कोरोना से मुक्त जिलों को राहत देने पर विचार कर रही है। शीघ्र ही इस पर निर्णय लिया जा सकता है। गुरुवार को शासन के आला अधिकारियों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में यह निर्णय लिया जाएगा, जिस जिले में अब तक मरीज नहीं मिले हैं, उस इलाकों में कुछ राहत दी जाए। हालांकि, 11 अप्रैल के बाद ही पता चलेगा कि सही स्थिति क्‍या है। हालांकि, लोजपा व रालोसपा लॉकडाउन हटाने के पक्ष में नहीं हैं। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने गुरुवार को कहा कि लॉकडाउन पर अंतिम फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इसके पहले बुधवार को लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान ने कहा था कि पूरी तरह लॉकडाउन नहीं हटाना चाहिए। 

कोरोना वीर से सम्मानित होंगे पुलिसकर्मी

पटना। लॉकडाउन में सड़कों पर ड्यूटी निभाने और कोरोना से आम लोगों की हिफाजत करने में जुटे पुलिसकर्मियों को प्रोत्साहित करने के लिए अब उन्हें सम्मानित करने की तैयारी है। पुलिस मुख्यालय स्तर पर तैयारी की जा रही है। इसके तहत हर रैंक के पुलिस अधिकारी और जवान को सम्मानित किया जाएगा। पुरस्कार स्वरूप प्रशस्ति पत्र के साथ राशि दी जाएगी। इसे लेकर बिहार के डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडेय ने आवश्‍यक निर्देश दिए हैं। डीजीपी ने बताया कि लॉकडाउन, क्वारंटाइन सेंटर और आइसोलेशन सेंटर की ड्यूटी में दिन-रात तैनात पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। एसएसपी-एसपी की सिफारिश पर जहां डीएसपी, इंस्पेक्टर से लेकर सिपाही स्तर के पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया जाएगा वहीं, आइजी-डीआइजी व पुलिस मुख्यालय की सिफारिश वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को पुरस्कृत करने का निर्णय लिया गया है।

मनीऑर्डर वाले डाकिए बांट रहे करोड़ों रुपये

पटना। लॉकडाउन में बिहार के 42 लाख लोगों ने 2800 करोड़ नकद लिया। इंडिया पोस्ट से राज्य के करीब  42 लाख से अधिक लोगों ने इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक, डाकघरों और डाकसेवकों के माध्यम से करीब 2800 करोड़ रुपये से अधिक नकद भुगतान लिया। करीब 12000 लोग ऐसे हैं, जिनका बैंक खाता देश के विभिन्न राज्यों में था, लेकिन बिना एटीएम कार्ड, पहचान पत्र और मोबाइल के ही सिर्फ अंगूठे के निशान से 2.80 करोड़ नकद हासिल किया।

ऑनलाइन मनेगा गुड फ्राइडे, चर्च से होगा फेसबुक लाइव

पटना। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए पटना के चर्चों में इस बार ऑनलाइन गुड फ्राइडे मनाया जाएगा। शुक्रवार को गुड फ्राइडे पर लोदीपुर स्थित मेथोडिस्ट चर्च में दोपहर 12 बजे से तीन बजे तक फेसबुक लाइव किया जाएगा। रविवार को ईस्टर के मौके पर भी सुबह 10 बजे से 11: 30 बजे तक फेसबुक लाइव से प्रार्थना होगी। पाटलिपुत्र स्थित चर्च में यूट्यूब के जरिए गुड फ्राइडे का समारोह लाइव किया जाएगा, ताकि लोग घरों से ही इसमें शामिल हो सकें। कोरोना के दौरान रविवार को होने वाली प्रार्थना भी लाइव की जा रही है।

अनानास और चाय उत्पादक किसानों के समक्ष रोजी-रोटी का संकट

किशनगंज। जिले में लगभग 25 हजार हेक्टेयर में चाय और 20 हजार हेक्टेयर में अनानास की खेती हो रही है। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन होने की वजह से मजदूर खेत में नही पहुंच पा रहे हैं। इस वजह से उत्पादन पर प्रतिकूल असर दिखने लगा है। साथ ही मजदूरों के सामने आर्थिक समस्या उत्पन्न होने लगी है। 

नहीं पहुंच रहीं कैंसर की दवाएं, कीमोथेरेपी भी प्रभावित

पटना। लॉकडाउन के कारण कैंसर की महत्वपूर्ण दवाओं की किल्लत हो गई है। इसके कारण अस्पतालों में कीमोथेरेपी भी प्रभावित हो रही है। इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (आइजीआइएमएस) में हर दिन 150-250 मरीजों की कीमोथेरेपी होती थी, लेकिन अब यह नहीं हो पा रही है। बॉयोमैप आदि कंपनियों की दवाएं मुंबई, दिल्ली, कोलकाता आदि जगहों से आती हैं, जो लॉकडाउन के कारण अब वह नहीं आ पा रही है।

दूसरों के लिए अनुकरणीय बन रही यह पहल

गया/नवादा। सैनिटाइज गेट बनाने की शुरुआत गया नगर निगम से हुई। दूसरे नगर निकायों ने भी इसका अनुकरण किया। अब ड्रोन से शहर को सैनिटाइज किया जा रहा है। नवादा के जिलाधिकारी ने कोविड सघन अभियान शुरू की है। गांव-देहात में आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका और आशा कर्मियों द्वारा संदिग्ध लोग चिह्नित किए जा रहे हैं। 

लॉकडाउन ने लगाया किसान क्रेडिट कार्ड पर ब्रेक

पटना। प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना से लाभान्वित किसानों को केसीसी से जोडऩे का प्रावधान किया गया है, किंतु लॉकडाउन के चलते बिहार के किसानों को इसका फायदा नहीं मिल रहा है। यहां पहले से ही केसीसी बनाने की रफ्तार सुस्त थी, अब लॉकडाउन ने लगभग बंद ही कर दिया है। प्रदेश में एक करोड़ 64 लाख किसान परिवार हैं, लेकिन किसान क्रेडिट कार्ड सिर्फ 31 लाख के पास ही है। पिछले एक साल में सवा लाख किसानों को ही जोड़ा जा सका है। 

आधार से लिंक कराया जाने लगा राशन कार्ड

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश के बाद राशन कार्डधारियों को एक-एक हजार रुपये भुगतान करने की प्रक्रिया अगले हफ्ते से तेज होगी। जिन राशन कार्डधारियों का आधार सीडिंग (लिंक) नहीं हो पाया है, उन्हें लिंक करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। दरअसल, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार के सभी राशन कार्ड धारियों के खाते में एक-एक हजार रुपये देने की घोषणा की है। इसके तहत रुपये डीबीटी से रुपये ट्रांसफर भी हो रहे हैं, लेकिन कई कार्ड आधार से लिंक नहीं हैं। इसके कारण उन खातों में पैसे नहीं गए हैं। ऐसे में लिंक की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। 

नेपाल से भारत में घुसने की फिराक में 36 तब्लीगी जमाती 

पश्चिमी चंपारण। नेपाल में ठहरे 36 तब्लीगी जमात बॉर्डर पार कर भारत आने की फिराक में हैं। इसकी खुफिया सूचना मिलने के बाद जिले के सिकटा, इनरवा, भिखनाठोरी बॉर्डर पर चौकसी बढ़ा दी गई है। गुरुवार को इसे लेकर बॉर्डर पर सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) और पुलिस पूरी तरह सतर्क रही। नेपाल से लगने वाली ग्रामीण सड़कों पर भी एसएसबी की मुस्तैदी दिखी। सीमावर्ती गांवों के लोगों को भी अलर्ट कर दिया गया है। एसएसबी 47 वीं बटालियन के सहायक सेनानायक संदीप प्रसाद ने बताया कि सूचना है कि लॉकडाउन का उल्लंघन कर कुछ लोग नेपाल से भारत में घुसने की कोशिश में हैं। उनका संबंध तब्लीगी जमात से भी हो सकता है। इसके मद्देनजर अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि, बीते 24 मार्च से बॉर्डर सील है। आवाजाही पूरी तरह बंद है। बॉर्डर के अलावा नेपाल से जुड़ी ग्रामीण सड़कों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। 

पटना के मोकामा से पकड़े गए नौ तब्लीगियों की हुई कोरोना जांच

पटना। पटना जिले के मोकामा से बुधवार की रात पकड़े गए नौ तब्लीगी जमातियों का गुरुवार को गर्दनीबाग स्थित सिविल सर्जन कार्यालय में कोरोना टेस्ट हुआ। सभी के नमूने की जांच पीएमसीएच स्थित केंद्र में होगी, जिसका रिजल्ट शुक्रवार को आएगा। जांच के बाद सभी को एंबुलेंस से वापस मोकामा भेज दिया गया जहां उन्हें सीसीएम विद्यालय में बने क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। उनकी निगरानी के लिए पुलिस के आधा दर्जन से अधिक जवानों को तैनात किया गया है। बताते चलें कि एक अप्रैल को दिल्ली मरकज से लौटने के बाद छह लोग फारसी मोहल्ला स्थित मस्जिद और तीन लोग हाथीदह थाना क्षेत्र के दरियापुर गांव में छिपे थे। पुलिस की मदद से बुधवार की रात सभी को पकड़ा गया था।

तीन महीने का बिजली बिल भी माफ करे सरकार : तेजस्वी

पटना। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने तीन महीने की स्कूल फीस माफ करने की मांग के बाद अब बिजली बिल भी माफ करने की बात भी कही है। वह मंत्रियों-विधायकों की तरह अधिकारियों के वेतन में भी कटौती के पक्षधर हैं। तेजस्वी ने राज्य सरकार से किसानों को क्षतिग्रस्त फसल का मुआवजा जल्द देने, बेरोजगारों और राशन कार्ड से वंचित लोगों को भी आर्थिक सहायता देने, प्रवासी कामगारों तक राशन-भोजन की व्यवस्था करने के साथ-साथ राशन एवं राशि भुगतान में किसी तरह की अनियमितता के दोषी मुलाजिमों पर कार्रवाई की मांग की है। तेजस्वी ने राहत राशि में घालमेल का आरोप लगाते हुए कहा है कि 95 फ़ीसद गांवों में कोई मदद नहीं पहुंची है। खाते में एक-एक हजार रुपये मिलने के दावे भी खोखले हैं। तेजस्वी ने कहा कि बड़ी संख्या में शिकायतें मिल रही हैं कि मोबाइल पर मैसेज तो आ गया है, लेकिन पैसे नहीं आए हैं। आखिर पैसे कहां जा रहे हैं। राज्य सरकार को जांच कर दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करनी चाहिए। तेजस्वी ने जांच केंद्रों की संख्या बढ़ाने की भी मांग की है। 

जरूरतमंदों व सफाईकर्मियों के बीच राशन-सेनेटाइजर का वितरण

पटना। पटना दक्षिण नागरिक संघर्ष समिति की ओर से गुरुवार को लगातार 10वें दिन लॉकडाउन को लेकर जरूरतमंदों के बीच भोजन का पैकेट और सूखा राशन सामग्री का वितरण किया गया। इसके साथ ही गुरुवार को कंकड़बाग में सफाईकर्मियों को नाश्‍ता का पैकेट व भोजन सामग्रियों के अलावा सेनेटाइजर बांटा गया। पटना दक्षिण नागरिक संघर्ष समिति के अध्‍यक्ष व वरीय भाजपा नेता दीपक अग्रवाल ने पटना नगर निगम के कंकड़बाग अंचल स्थित सिटी मैनेजर मोतीलाल शर्मा समेत सुपरवाइजर, झाडू देने वाले  कर्मचारियों, कूूङा उठाने वाले सफाईकर्मियों व चालकों को माला पहनाकर सम्मानित किया। इसके अलावा झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले 450 लोगों को भोजन पैकेट बांंटा। इतना ही नहीं, मजदूरों, फूटपाथ दुकानदारों के बच्‍चों के लिए खाद्य सामग्री बांटी गयी। इसमें समिति के उपाध्यक्ष मनोज गुडडु, उदय जायसवाल, दीपक बिहारी, प्रदीप झा, अजय सिंह समेत मुहल्‍ले के कई लोगों ने सहयोग किया। इसके अलावा अशोक नगर रोड नंबर तीन में रहने वाले ओडीशा के 125 मजूदरों को राशन सामग्री दी गई।  

मुख्यमंत्री ने बिल एंड मिलिंडा गेट्स फांउडेशन को दिया धन्यवाद 

पटना। मुख्यमंत्री ने संदिग्ध कोरोना मरीजों की जांच को ले बिल एंड मिलिंडा गेट्स फांउडेशन द्वारा पंद्रह हजार जांच किट उपलब्ध कराए जाने पर फांउडेशन के अधिकारियों को धन्यवाद दिया है। विदित हो कि बिल एंड मिङ्क्षलडा गेट्स फांउडेशन केंद्र व राज्य सरकारों के साथ मिलकर स्वास्थ्य एवं सामाजिक विकास सहित अन्य सेवाओं में सहयोग के लिए प्रयासरत है। बिहार को इस फांउडेशन का सहयोग मिलता रहता है। 

आइपीएस अधिकारियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए 9.65 लाख

पटना। भारतीय पुलिस सेवा के बिहार कैडर के 142 अधिकारियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में नौ लाख 65 हजार रुपये का अंशदान दिया है। अंशदान करने वालों में 85 एसएसपी- एसपी और 47 डीआइजी से डीजी स्तर के पुलिस अधिकारी हैं। कुछ अधिकारियों ने व्यक्तिगत रूप से भी अंशदान दिया है। एडीजी पुलिस मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने गुरुवार को यह जानकारी दी। डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने आइपीएस अफसरों से अपील की थी कि कोरोना के प्रभाव से निबटने के लिए वे मुख्यमंत्री राहत कोष में अंशदान करें। 

स्क्रैप से रेलकर्मियों ने बनाया सैनिटाइजर बूथ

मुंगेर। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जमालपुर रेल कारखाना भी लगातार काम कर रहा है। मरीजों के लिए वेंटिलेटर निर्माण के बाद अब रेलकर्मियों ने स्क्रैप से कोरोना संक्रमण मोचक बूथ का निर्माण किया है। इससे यहां काम करने वाले सात हजार कर्मी लाभान्वित होंगे। कारखाना के मिल राइट शॉप में एक दर्जन रेल कर्मियों ने दो दिनों में 15 हजार रुपये की लागत से इसका निर्माण किया है। रेलकर्मियों का दावा है कि यह उपकरण लोगों को शत-प्रतिशत सैनिटाइज कर सकता है। ऐसे दो बूथ कारखाना के दोनों प्रवेश द्वार पर लगाए जाएंगे। कारखाना में प्रवेश करने से पहले रेल कर्मियों को बूथ में प्रवेश करना होगा। इससे पूर्व, रेल कर्मियों द्वारा बनाए गए वेंटिलेटर को जांच के लिए कोलकाता भेजा गया है।

सर्वे टीम के कागजात फाड़ सूचना देने से किया इन्कार

मधेपुरा।  कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर बाहर से आए लोगों का सर्वे करने गई टीम के सदस्यों के साथ गुरुवार को बदसलूकी की गई। वार्ड नंबर 26 में रहने वाले लोगों ने इन्हें सूचना देने से इन्कार कर दिया। साथ ही इनके हाथ से कागजात छीनकर फाड़ दिए। टीम के सदस्यों के साथ दो दिनों में यह लगातार दूसरी घटना है। इधर, इसकी सूचना मिलने के बाद निगरानी पदाधिकारी एवं सदर थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। अधिकारियों ने लोगों को समझाया। डीडीसी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस के समझाने के बाद सर्वे फिर से शुरू हो गया।

कोरोना संकट के लिए केंद्र जिम्मेदार 

गया। हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) सेक्युलर के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने देश में कोरोना संकट के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा, 30 जनवरी से पहले ही इस बीमारी की जानकारी हो गई थी। लेकिन हमारे देश के प्रधानमंत्री अमेरिकी राष्ट्रपति के स्वागत में लगे थे। उन्होंने कहा कि उनके स्वागत का इनाम धमकी से मिला है। इस गलती के लिए पीएम मोदी को देश से माफी मांगनी चाहिए। समय रहते कारगर कदम उठा लिए गए होते तो यह स्थिति उत्पन्न नहीं होती। 

नगालैंड निवासी बिहारी ने गर्भवती पत्नी की जांच को मांगी मदद

पटना : लॉकडाउन में फंसे अप्रवासी बिहारी तरह-तरह की समस्याओं को लेकर दिल्ली स्थित बिहार भवन के हेल्पलाइन नंबर पर फोन कर रहे हैं। नगालैंड से एक व्यक्ति ने गुरुवार को फोन किया कि उनकी पत्नी गर्भवती है। जांच जरूरी है। ऐसे में उनकी मदद की जाए। वे बेगूसराय जिले के रहने वाले हैं। इस समस्या के संदर्भ में तुरंत बिहार भवन की ओर से नगालैंड के चीफ रेजिडेंट कमिश्नर को फोन किया गया। चीफ रेजिडेंट कमिश्नर ज्योति कलश से पटना साइंस कालेज के विद्यार्थी रहे हैं। उन्होंने तुरंत मामले का संज्ञान लिया। संबंधित नंबर पर उन्होंने फोन किया और जानकारी ली। बेगूसराय के उक्त व्यक्ति ने फीडबैक कॉल में बताया कि उनके पास डॉक्टर पहुंच गए हैं। पुरानी पर्ची को ले गए हैं।

होम क्वारंटाइन से निकले युवक का पेड़ से लटका शव मिला 

पश्चिम चंपारण।  रामनगर थाना क्षेत्र के खटौरी गांव से पश्चिम सरेह में होम क्वारंटाइन से बाहर निकले एक युवक का शव गुरुवार को शीशम के पेड़ से लटकता मिला। इसकी सूचना से सनसनी फैल गई। पुलिस ने शव को नीचे उतरा। इसके बाद पोस्टमार्टम के लिए बगहा अनुमंडलीय अस्पताल भेजा। युवक की पहचान खटौरी गांव निवासी प्रमोद मांझी (35) के रूप में हुई। वहां पहुंचे एसडीपीओ अर्जुन लाल ने कहा कि गले पर निशान मिले। पेड़ पर चढने के दौरान मिट्टी पर पैर के निशान मिले। सभी बिंदुओं की जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उसके गले में बंधा गमछा भी मिला। 

समस्तीपुर के सिंघिया में युवक की हत्या, पोखर किनारे शव को फेंका 

समस्तीपुर। लॉकडाउन के बीच थाना क्षेत्र के लीलहॉल गांव में गुरुवार को एक युवक की हत्या कर दी गई। उसकी पहचान गांव के मो. मुस्तकीम के पुत्र मोहम्मद गुड्डू ( 22) के रूप में हुई। घटना के बाद परिवार में कोहराम मच गया। 

लॉकडाउन का उल्लंघन कर गंडक में नावों का परिचालन

बगहा (पश्चिम चंपारण)।  लॉकडाउन में एक तरफ सड़क और रेल यातायात पूर्णत: बंद, वहीं गंडक नदी में नावों का परिचालन हो रहा है। इसका फायदा उत्तर प्रदेश और पड़ोसी देश नेपाल में काम करने वाले कुछ लोग उठा रहे। ये नाव से नदी पार कर चोरी-छिपे अपने घर पहुंच रहे हैं। प्रतिदिन तकरीबन 25 से 30 नावें चल रही हैं। 

जयनगर के 17 क्वारंटाइन   सेंटरों में लटके मिले ताले 

मधुबनी। जयनगर प्रखंड क्षेत्र में कोरोना से बचाव के लिए बने सभी 17 क्वारंटाइन सेंटरों पर गुरुवार को ताले लटकते मिले। मध्य विद्यालय पीठवाटोल, जयनगर रुंगटा मध्य विद्यालय, जयनगर बस्ती सेंटर भी बंद थे। पड़ताल के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि ये तीनों सेंटर तो  कभी खुले ही नहीं। अनुमंडल अस्पताल के बगल में नर्सिंग स्कूल के क्वारंटाइन सेंटर में भी ताला लगा था। 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस