पटना [जेएनएन]। कांग्रेस (Congress) के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद अब राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर अब इस्तीफा वापसी का दबाव है। इसके लिए बिहार के कुछ नेताओं-कार्यकर्ताओं ने पहले तो खून से पत्र लिखा, लेकिन जब इससे बात नहीं बनी तो अब कुछ कार्यकर्ताओं ने पोस्‍टर लगा आत्मदाह की चेतावनी दे डाली हैं। इसके लिए आज 11 जुलाई की तिथि तय की गई है।

विदित हो कि  लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में हार की जिम्‍मेदारी लेते हुए राहुल गांधी बीते 25 मई को अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। राहुल गांधी के इस्तीफा वापस नहीं लेने के बाद कई और वरिष्ठ नेताओं ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया। राहुल पर इस्‍तीफा वापसी का दबाव है। हालांकि, वे अपने फैसले पर अड़े हुए हैं।

पोस्‍टर लगा इस्‍तीफा वापसी का दबाव

बुधवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पोस्‍टर के माध्‍यम से राहुल गांधी से इस्‍तीफा वापस लेने का आग्रह करते हुए उनके ऐसा नहीं करने पर आत्मदाह की चेतावनी दी है। बता दें कि बीते 6 जुलाई को एक पोस्टर लगाया था, जिसमें 11 जुलाई को एक दर्जन कार्यकर्ताओं ने आत्मदाह की चेतावनी दी थी।

इन्‍होंने दी आत्‍मदाह की चेतावनी
पोस्टर में लिखा है कि राहुल गांधी अपने इस्तीफे पर विचार करें, अन्यथा 11 जुलाई को 16 कांग्रेसी कार्यकर्ता बिहार कांग्रेस मुख्‍यालय सदाकत आश्रम में आत्मदाह कर लेंगे। आत्‍मदाह की चेतावनी देने वालों में ई वेंकटेश रमण, वरुण शर्मा, विजय कुमार देव, राजीव कुमार, राकेश कुमार मुन्ना, दिलीप कुमार सिंह, पंकज पासवान, प्रभाकर झा, सूरज कुमार, मो. जुनैद इकबाल, पप्पू कुमार रंजन, चंदन कुमार, वेंकटेश रमण, रणधीर यादव, चुन्नु सिंह, बिहार प्रदेश कांग्रेस के पूर्व सचिव सिद्धार्थ क्षत्रिय और अभिनव कुमार सिंह शामिल हैं।

इसके पहले खून लिख चुके पत्र

इससे पहले 27 जून को बिहार के कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सामूहिक रूप से राहुल गांधी को खून से खत लिख इस्तीफा वापस लेने की अपील की थी।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप