पटना [राज्य ब्यूरो ]। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि देश महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाने जा रहा है। राष्ट्रपिता के प्रति सबसे बड़ा सम्मान यह होगा कि इस मौके पर पूरे देश में शराबबंदी लागू की जाए। बिहार में महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह के सौ वर्ष पूरे होने पर शताब्दी समारोह मनाया गया। राज्य में लागू पूर्ण शराबबंदी बापू के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि है। चेन्नई में करुणानिधि की स्मृति में आयोजित सभा में मुख्यमंत्री ने यह बात कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डीएमके ने वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव के घोषणापत्र में शराबबंदी को प्रमुखता दी थी। बिहार में लागू शराबबंदी की प्रतिध्वनि उनकी घोषणा में परिलक्षित हुई थी। करुणानिधि ने कहा था कि अगर डीएमके सत्ता में वापस आई तो लोकहित में शराबबंदी को पूरे राज्य में लागू किया जाएगा।

नीतीश ने कहा कि एक इंटरव्यू में करुणानिधि ने यह कहा था कि जब बिहार में शराबबंदी हो सकती है तो फिर तमिलनाडु में क्यों नहीं? कहा कि एक उत्तराधिकारी के रूप में एमके स्टॉलिन का यह दायित्व बनता है कि वह करुणानिधि की घोषणा को तार्किक परिणति तक पहुंचाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि करुणानिधि सामाजिक न्याय एवं समानता के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहे। उन्होंने जीवन भर गरीब एवं पिछड़ों के हक की लड़ाई लड़ी। उनका मानना है कि तमिलनाडु के राजनीतिक एवं सामाजिक क्षेत्र में एक युग का अंत हो गया है। उन्होंने केंद्र में सरकार के गठन में कई बार महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और अपनी राजनीतिक कुशलता का परिचय दिया। सामाजिक एवं शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों को मंडल कमीशन कि रिपोर्ट के अनुरूप आरक्षण नीति को लागू करने में अहम भूमिका निभाई।

Posted By: Amit Alok