सारण/ वाल्‍मीकिनगर/ पश्चिमी चंपारण [जगारण टीम]। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को सारण के दरियापुर और मकेर में आयोजित चुनावी जनसभा में लालू-राबड़ी के शासनकाल पर करारा हमला किया। इसके अलावा उन्‍होंने वाल्‍मीकिनगर की सभा में भी लालू यादव की जेल यात्रा पर जमकर निशाना साधा। कहा कि वे खुद अपने गलत कामों से जेल गए हैं और लोग कहते हैं कि हमने फंसा दिया। कोर्ट में कोई कैसे दखल दे सकता है। सब दिन उन्‍हें सेवा के बजाय मेवा खाने से मतलब रहा है। 

सारण की सभा में बोले नीतीश

सारण की सभाओं में सीएम नीतीश ने कहा कि लालू-राबड़ी के शासनकाल में लोग बिजली के तार पर धोती सुखाते थे। वह जमाना लद गया। आज 24 घंटे में 20-22 घंटे बिजली रहती है। पति-पत्नी की सरकार में शाम होते ही लोग घरों में दुबक जाते थे। आज ऐसी स्थिति नहीं है। पहले पटना जाने में पूरा दिन लगता था, आज राज्य के किसी स्थान से पांच घंटे में राजधानी पहुंच सकते हैं।

लालू को कोर्ट ने सजा दी तो कह रहे गलत मुकदमे में फंसा दिया

सीएम ने कहा कि राजद सुप्रीमो पर जब कानून का शिकंजा कसा गया और अदालत ने सजा दी तो कहा जाने लगा कि गलत मुकदमे में फंसा दिया। इन्हें अब संविधान खतरे में नजर आने लगा है। कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बदौलत बिहार में काफी विकास कार्य हुआ है। विकास के लिए विशेष पैकेज मिला है। मोदी सरकार ने गरीबों व किसानों के लिए कई कार्य किए।

हमने महिलाओं को 50 परसेंट आरक्षण दिया 

सीएम ने अपने शासन काल के दौरान किए गए कार्यो को गिनाते हुए बताया कहा कि हमने महिलाओं को 50 फीसद आरक्षण दिया। दलितों-अल्पसंख्यकों एवं कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए काम किया। सरकारी नौकरियों में 35 फीसद आरक्षण महिलाओं को देकर नौकरी में उनकी भागीदारी बढ़ाई। पहले आपदा के दौरान तीन माह पर अनाज मिलता था। अब आपदा प्रबंधन के माध्यम से सरकार से मिलने वाली सुविधाएं 24 घंटे में पहुंचती है। वहीं, मौके पर सारण के एनडीए प्रत्याशी राजीव प्रताप रूडी कहा कि कुछ लोग अपना परिचय लालू जी के समधी के रूप में दे रहे हैं, जबकि असलियत बताने के लिए दामाद का सोशल मीडिया में किया गया पोस्ट ही काफी है। 

वाल्‍मीकि नगर में सभा का आयोजन  

उधर वाल्‍मीकि नगर की सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बहुत दिनों से प्रयास चल रहा था, लेकिन मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही घोषित किया गया। यह देश की कूटनीतिक जीत है। उज्जवला योजना के तहत गरीब महिलाओं को मुफ्त में गैस सिलेंडर की सुविधा दी गई, इससे बहुत फायदा हुआ। आयुष्मान भारत के तहत लोगों को बहुत फायदा हो रहा है। पांच लाख तक का मुफ्त इलाज उन्हें मिल रहा है। किसान सम्मान योजना के तहत किसानों को फायदा हो रहा। बिहार के कई प्रस्तावों को प्रधानमंत्री मोदी ने स्वीकार किया। सड़क और पुल के क्षेत्र में मोदी ने 50 हजार करोड़ की योजनाओं को स्वीकार किया। इससे बिहार का पिछड़ापन दूर होगा।

पहले लोग शाम में निकलने से डरते थे

उन्‍होंने कहा कि चंपारण के इलाके में ऐसी स्थिति थी कि दोपहर के बाद ही लोग घर से निकलने में डरते थे। यह स्थिति इसलिए थी, क्योंकि 15 वर्षों तक एक ही परिवार का राज रहा। तब कानून का राज नहीं था। चंपारण की धरती कई मायनों में विशेष है। गांधी जी ने यहीं से अपने आंदोलन की शुरुआत 1917 में की थी। मैं भी अपनी हर योजनाओं की शुरुआत इसी धरती से करता हूं। इस धरती से मुझे बहुत लगाव है। थरूहट विकास अभिकरण की शुरुआत 2009 में विकास यात्रा के दौरान ही की गई थी। इससे थारू क्षेत्रों का विकास हुआ। जो किनारे पड़े हुए थे, उनको मुख्यधारा से जोड़ने की कोशिश हम लोगों ने की है। बिहार पहला राज्य है, जिसने महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण पंचायती राज और नगर निकायों में दिया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस