पटना [राज्य ब्यूरो]। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि मदरसा शिक्षक को अतिशीघ्र सातवें वेतन आयोग का लाभ मिलेगा। वहीं अन्य मदरसा शिक्षकों को नियोजित शिक्षकों की तरह वेतनवृद्धि की सुविधाएं मिलेंगी। राजधानी के मीठापुर स्थित चंद्रगुप्त प्रबंधन संस्थान के समीप मौलाना मजहरूल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय के परिसर निर्माण को ले आयोजित शिलान्यास समारोह में मुख्यमंत्री ने यह बात कही। लगभग सौै करोड़ की लागत से इस परिसर का निर्माण होगा। मुख्यमंत्री ने यह लक्ष्य दिया है कि अगले वर्ष 15 अगस्त के पहले इस परिसर का निर्माण कार्य पूरा हो जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 1998 में मौलाना मजहरूल हक विश्वविद्यालय की स्थापना हुई पर दिलचस्प बात यह थी कि इसकी अधिसूचना जारी ही नहीं हुई। नवंबर 2006 में इस विश्वविद्यालय के अस्तित्व में आने की अधिसूचना जारी हुई। इसकी स्थापना करने वालों ने निर्णय लेकर छोड़ दिया पर हमारी सरकार ने इसे बनाया। सही ढंग से इस विश्वविद्यालय ने 2008 से काम करना आरंभ किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में सूबे को आगे बढ़ाने की दिशा में काफी काम किया है। हम सभी लोगों से कहेंगे कि पढ़ाई आगे जारी रखने के लिए स्टुडेंट क्रेडिट कार्ड की मदद लें। लड़का और लड़की सभी को पढ़ाएं। पढ़ेगा नहीं तो आगे कैसे बढ़ेगा। सब लोग मिलकर काम करेंगे तो तरक्की होगी।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आजकल राजनीति में सिद्धांत का कोई मतलब नहीं रह गया है। पर यह हमारी ड्यूटी है कि हम बिहार के लोगों की सेवा करें। जब तक लोग चाहेंगे हम काम करते रहेंगे। बिना काम के धन अर्जित करने वाले ज्यादा हैं। उन्होंने कहा कि हम दूसरे धर्म वालों के प्रति भी मन में सम्मान रखें। जब समाज में भाईचारा रहेगा तो देश और राज्य की तरक्की होगी।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस