पटना, राज्‍य ब्‍यूरो। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने छठ के मद्देनजर गंगा घाटों का निरीक्षण किया। उन्होंने गंगा नदी के जलस्तर एवं प्रवाह को देखते हुए छठ घाटों पर सुरक्षा के इंतजाम और सुविधाओं का विशेष ध्यान रखने की हिदायत दी। कहा कि व्रतियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए घाट बनाएं, ताकि अर्घ्‍य देने में परेशानी न हो। उन्हें हर प्रकार की सहूलियत मिले। घाटों और नदी किनारे की सड़कों के पास ठीक से बैरिकेडिंग कराएं।   कलेक्ट्रेट घाट से महेंद्रू घाट के टापूनुमा संरचना के बीच व्रतियों के आवागमन के लिए पीपापुल का निर्माण कराया जा रहा है। बांस घाट से भी टापूनुमा संरचना तक पीपा पुल के  निर्माण की संभावनाओं को तलाशें। 

(प्रधान सचिव आनंद किशोर को निर्देश देते सीएम। तस्‍वीर- आइपीआरडी )

घाटों की सफाई एवं स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने का निर्देश

मुख्यमंत्री ने स्टीमर से गांधी घाट से पटना सिटी के कंगन घाट और उसके बाद दानापुर के नासरीगंज तक गंगा घाटों का निरीक्षण किया। साफ-सफाई का निर्देश दिया। निरीक्षण के बाद मुख्यमंत्री ने पत्रकारों को बताया कि गंगा किनारे बड़ी संख्या में लोग छठ मनाते हैं। मैंने पटना में विभिन्न घाटों की तैयारियों का जायजा लिया। इस बार अधिक वर्षा होने से गंगा में पानी का प्रवाह ज्यादा है। ऐसे में छठ घाटों पर सुरक्षा इंतजाम जरूरी है। अधिकारी और इंजीनियर घाटों का जायजा लेकर छठ को लेकर स्थल का चयन करेंगे और फिर काम शुरू करेंगे। वे तीन नवंबर को एक बार फिर से छठ घाटों का निरीक्षण करके तैयारियों का जायजा लेंगे।

निरीक्षण के समय ये भी थे साथ में

उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार एवं चंचल कुमार तथा सचिव अनुपम कुमार, मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण, डीजीपी एसके सिंघल, विकास आयुक्त आमिर सुबहानी, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद, पथ निर्माण के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत, नगर विकास के प्रधान सचिव आनंद किशोर, जल संसाधन सचिव संजीव हंस, पटना के प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल, जिलाधिकारी चंद्रशेखर सिंह और एसएसपी उपेंद्र शर्मा समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

Edited By: Vyas Chandra