पटना, जेएनएन। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को एक बार फिर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने का मुद्दा विधानसभा में उठाया। नीतीश कुमार विधानसभा में राजद के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी के राज्य में पेंशन से लाभान्वित लोगों की समस्या पर उठाए गए सवालों का जवाब दे रहे थे।

नीतीश ने कहा कि अन्य राज्यों से बिहार की तुलना गलत है और राष्ट्रीय औसत तक पहुंचा जाए इसीलिए हम बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग करते हैं। हालांकि नीतीश कुमार ने कहा कि जितना सामर्थ्य आर्थिक आधार पर राज्य का है, उसके हिसाब से लोगों की सहायता की जा रही है।

सिद्दीकी ने कहा कि राज्य में पेंशन की राशि तमिलनाडु ,आंध्र प्रदेश, हरियाणा जैसे राज्यों के समान क्यों नहीं की जाती है। इस पर नीतीश कुमार ने कहा कि आप भी वित्तमंत्री रहे हैं और जिन राज्यों से आपने तुलना की है, वो विकसित राज्यों की श्रेणी में आते हैं। आप जाकर उन राज्यों के रेवेन्यू के बारे में पता कर लीजिये। वहां जो प्रति व्यक्ति आय है वो राष्ट्रीय औसत से भी अधिक है, जबकि बिहार अभी भी राष्ट्रीय औसत से कम है।

नीतीश ने कहा, 'बिहार में गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले हों या ऊपर सभी के लिए मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना और राष्ट्रीय औसत तक पहुंच जाए, इसीलिए हम बिहार को विशेष राज्य के दर्जे की मांग करते हैं।हालांकि नीतीश कुमार ने कहा कि आर्थिक आधार पर राज्य में इतनी सामार्थ्य तो है कि उसके हिसाब से लोगों की सहायता की जा रही है।

 

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस