पटना, जेएनएन। बिहार के मुख्यमंत्री एवं जनता दल यूनाइटेड (JDU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने अपने बड़बोले नेताओं, पवन वर्मा (Pawan Verma) को कड़ी नसीहत देते हुए कहा है कि उन्हें जहां जाना हो, वहां जाएं, उनको हमारी शुभकामनाएं हैं। नीतीश ने कड़े शब्दों में कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Ammendment Act) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (National Register of citizens) को लेकर पार्टी का स्टैंड स्पष्ट है।

नीतीश कुमार ने पार्टी विरोधी बयान देने वालों पवन वर्मा और प्रशांत किशोर पर सख्ती दिखाते हुए स्‍पष्ट कर दिया है कि बिहार में भारतीय जनता पार्टी (BJP) और जदयू के गठबंधन पर किसी के कुछ कहने-सुनने का कोई असर नहीं होनेवाला है। नीतीश के इस कड़े रूख से स्पष्ट है कि पार्टी के खिलाफ जानेवाले नेताओं के लिए कोई जगह नहीं है।

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि पवन वर्मा के लिए उनके दिल में बहुत इज्जत है। उन्होंने जो सीएए-एनआरसी को लेकर बयान दिया है वह बयान पार्टी का नहीं, उनका व्यक्तिगत बयान हो सकता है। किसी भी नेता का पार्टी से बिना विचार-विमर्श किए किसी तरह का बयान देना गलत है। उन्हें जहां जाना हो जाएं, वे जाने के लिए स्वतंत्र हैं। उन्हें हमारी शुभकामनाएं हैं। जेडीयू का हर विषय पर स्टैंड साफ होता है।

पवन वर्मा ने पत्र लिखकर सीएम नीतीश को दी थी नसीहत

विदित हाे कि सीएए-एनआरसी के मुद्दे पर जेडीयू प्रवक्ता पवन वर्मा ने पार्टी सुप्रीमो और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सवाल किया था कि वे इन मुद्दों पर पार्टी का रुख स्पष्ट करें। पवन वर्मा ने पत्र लिखकर कहा था कि 2017 में नीतीश कुमार ने उन्हें बताया था कि बीजेपी-मोदी किस तरह लोकतांत्रिक मूल्यों को खत्म कर रहे हैं, लेकिन अब वही नीतीश उसी बीजेपी के साथ दिल्ली में गठबंधन कर रहे हैं।

पार्टी प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि इस डबल स्टैंडर्ड की वजह से ही पार्टी के कई विधायक साथ छोड़ रहे हैं। पार्टी में ही कुछ ऐसे विचार हैं जो कि नीतीश कुमार के साथ नहीं मेल खा रहे हैं और ऐसे मुद्दों को लेकर गुस्सा बढ़ता जा रहा है।

प्रशांत किशोर ने गृहमंत्री अमित शाह को दी थी चुनौती

सीएए और एनआरसी के खिलाफ लगातार आवाज उठाने वाले जेडीयू नेता प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर गृह मंत्री अमित शाह चुनौती देते हुए कहा कि अगर आप सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध करने वालों की परवाह नहीं कर रहे हैं तो फिर क्यों नहीं आगे बढ़ जाते हैं और इसे लागू करने की कोशिश करते हैं? आप सीएए और एनआरसी को उसी क्रोनोलॉजी में लागू करने का प्रयास करें, जो आपने राष्ट्र के लिए इतनी बड़ी घोषणा की है!'

जेढीयू ने इन नेताओं पर दिया था कार्रवाई का संकेत

जेडीयू ने पहले ही पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी तथा पार्टी के फैसले की सार्वजनिक आलोचना करने को लेकर इन दोनों नेताओं, पवन वर्मा और प्रशांत किशोर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करने का संकेत दिया है। अब लगता है कि पार्टी दोनों को बाहर का रास्‍ता भी दिखा सकती है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने भी इसपर नाराजगी जतायी थी।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस