पटना, जेएनएन। बिहार कांग्रेस (Bihar Congress) उपचुनाव से पूरी तरह विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election 2020) पर निशाना साधने में जुट गई है। इसी कड़ी में गुरुवार को पटना में यूथ कांग्रेस (Youth Congress) की ओर से सामाजिक न्‍याय सम्‍मेलन का आयोजन किया गया है। इसमें छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) पहुंचे। वे केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर बरसे। उन्‍होंने देश में मंदी से लेकर लोकसभा में बीजेपी (BJP) की जीत को लेकर कमेंट किया। उन्‍होंने कहा कि देश में आदिवासियों की जमीन छीनी जा रही है।   

छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि केंद्र के नाम पर देश की जनता ठगा हुआ महसूस कर रही है। आप ठगे जा चुके हैं। दूसरों के मुद्दों पर वोट मत कीजिए। अपनी समस्याओं को समझिए। उन्‍होंने कहा कि झांसे में मत अाइए। उन्‍होंने लोकसभा में बीजेपी उम्‍मीदवारों की जीत पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी के सांसद 6-6 लाख वोटों से जीत दर्ज की, लेकिन उनके स्वागत में 50 लोग भी नहीं जुटते थे। 

बघेल ने कहा कि रिजर्व बैंक से केंद्र सरकार ने 1 लाख 76 हजार करोड़ रुपये निकाल लिये। वे रुपये उद्योगपति की जेबों में चले गए। इससे देश की गरीब जनता का कोई भला नहीं हुआ। उन्‍होंने कहा कि पूरे देश में मंदी है, लेकिन छत्तीसगढ़ में कोई मंदी नहीं है। मोटर सेक्टर में भी मंदी नहीं है। उन्‍होंने कहा कि देश मे आदिवासियों की जमीन छिनी जा रही है। जबकि, हमने छत्‍तीसगढ़ में 10 हजार अदिवासियों को जमीन दी है। उन्‍होंने कहा कि हमारी सरकार ने छठ पूजा के लिए छुट्टी घोषित कर दी है। 

बघेल ने कहा कि पहले नरसिम्हा राव और रामविलास पासवान जैसे नेता 4-5 लाख वोट से जीतते थे, तो हर जगह उनकी चर्चा होती थी। इस बार 6-7 लाख वोट के मार्जिन से अनेक भाजपा नेता जीते हैं, मगर उनकी चर्चा नहीं है। एयरपोर्ट पर उनके स्वागत में 50 लोग भी नहीं पहुंचे थे। साफ लगता है कि लोगों को एहसास हो गया है कि वे भटक गए थे, और गलत नेताओं के पक्ष में वोट कर दिए। आगे वे किसी को भटकाने का मौका नहीं दें। अपनी समस्याओं के आधार पर अपने मुद्दे तय करें। उन्होंने कहा कि बिहार क्रांति की भूमि रही है। उन्होंने बिहारवासियों का आह्वान किया कि वे देश में बदलाव के लिए आगे आएं। 

छत्तीसगढ़ की चर्चा करते हुए बघेल ने कहा कि वहां भाजपा की सरकार कई वर्षों तक रही, लेकिन आरक्षण की व्यवस्था बेहतर ढंग से लागू नहीं की गई। कांग्रेस की सरकार ने वहां 82 प्रतिशत तक आरक्षण की व्यवस्था की है। दलित, अतिपिछड़ों, आदिवासियों को आबादी के अनुरूप आरक्षण मिल रहा है। गरीब सवर्ण भी आरक्षण का लाभ ले रहे। उन्होंने आर्थिक मंदी के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि आरबीआइ से 1.76 लाख करोड़ रुपये गरीबों के लिए नहीं, बल्कि कारपोरेट घरानों को लाभ पहुंचाने के लिए निकाले गए।

उनके मुताबिक, आर्थिक मंदी छत्तीसगढ़ में नहीं है। मोटर वाहनों, सोना के व्यवसाय आदि में इजाफा हुआ है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि केंद्र सरकार ने बिहार के लिए किया गया एक भी वादा पूरा नहीं किया है। बिहार प्रदेश कांग्रेस के अध्‍यक्ष डॉ. मदनमोहन झा ने कहा कि मेरा संबंध यूथ कांग्रेस से बहुत पुराना है। मैं जब पहली बार विधायक बना तब यूथ कांग्रेस में ही था। इतना ही नहीं, बिहार में उस समय बने कांग्रेसी सरकार के 40 विधायक यूथ कांग्रेस के सदस्य थे। उन्‍होंने यूथ कांग्रेस के पदाधिकारियों व नेताओं को मेहनत करने की नसीहत दी। सम्मेलन को युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी.वी., प्रदेश अध्यक्ष गुंजन पटेल, प्रदेश उपाध्यक्ष मंजीत आनंद साहू के अलावा कांग्रेस के सदानंद सिंह, अखिलेश प्रसाद सिंह, चंदन यादव आदि ने भी संबोधित किया। 

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप