शेखपुरा, जेएनएन। बिहार के शेखपुरा सदर अस्पताल परिसर में एक महिला ने अस्पताल गेट पर ही बच्चे को जन्म दे दिया। हद तो तब हो गई, जब ड्यूटी पर तैनात स्वास्थ्यकर्मियों ने जच्चा-बच्चा को अस्पताल में भर्ती करने से इनकार कर दिया। बाद में पटना ले जाने के दौरान रास्ते में ही नवजात की मौत हो गई। पीड़ित परिवार ने रुपये नहीं मिलने पर भर्ती से इनकार करने का आरोप लगाया है। 

पीड़िता सरिता देवी सदर प्रखंड के मटोखर गांव निवासी इंद्रदेव महतो की पत्नी है। पीड़िता के परिवार वालों ने बताया कि शनिवार की आधी रात घर पर प्रसव पीड़ा होने के बाद सरिता को सदर अस्पताल लाया गया। इसी दौरान अस्पताल के गेट पर ही सरिता ने बच्चे को जन्म दे दिया।

रात के डेढ़ बजे जच्चा-बच्चा को अस्पताल में भर्ती करने की गुहार लगाई, लेकिन नर्स ने इसके लिए पांच हजार रुपये मांगे। रुपये नहीं देने पर दूसरी जगह ले जाने को मजबूर किया गया। पटना ले जाने के दौरान रास्ते में ही नवजात की मौत हो गई। बाद में सरिता देवी को बिहारशरीफ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

इधर, सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. शरतचंद्र ने पीड़ित परिवार के आरोपों का खंडन किया है। उन्होंने कहा कि अभी भी बहुत से लोग घरों में ही प्रसव कराते हैं और स्थिति बिगड़ने पर अस्पताल ले आते हैं। 

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप