किशनगंज, अमितेष सोनू। Central closely keeps watch over infiltration in Seemanchal and Union Minister Nityanand Rai has visited the border area twice in two months : नागरिकता संशोधन कानून को लेकर मचे बवाल के बीच जेएनयू छात्र शरजील इमाम (JNU Student Sharjil Imam) के बयान के बाद सुर्खियों में आए चिकेन नेक पर गृह मंत्रालय की नजर है। उसके द्वारा लगातार निगरानी रखी जा रही है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय (Nityanand Rai) स्वयं इस पर नजर रख रहे हैं। वे 31 दिसंबर को बांग्लादेश बॉर्डर (Bangladesh Border) का निरीक्षण कर फुलबरिया कैंप में बीएसएफ (BSF) के अधिकारियों के साथ बैठक कर हालात का जायजा ले चुके हैं। दूसरी तरफ, 29 फरवरी को उन्होंने नेपाल सीमा पर स्थित किशनगंज जिले के ठाकुरगंज स्थित एसएसबी बटालियन मुख्यालय में एसएसबी के आला अधिकारियों के साथ  बैठक की है। 

दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून (CAA) लागू होने और शरजील इमाम से मचे बयान के बाद बिहार के सीमावर्ती जिलों में सीमा सुरक्षा बल (Border Security Force) को अलर्ट कर दिया गया है। बांग्लादेशी घुसपैठ में बढ़ोत्तरी को देखते हुए सुरक्षा एजेंसियां इलाके पर कड़ी नजर रखे हुए है। इसके साथ ही सेंट्रल गवर्नमेंट की भी नजर है। इसकी गंभीरता को इसी से समझा जा सकता है कि दो महीनों में गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय (Union Minister of State for Home Affairs Nityanand Rai) यहां का दो बार दौरा कर चुके हैं।

बता दें कि बिहार में सीमांचल का क्षेत्र नेपाल (Nepal) और बांग्लादेश (Bangladesh) से सीधे जुड़ता है, जहां से घुसपैठ होती रही है। लेकिन हाल के दिनों में घुसपैठ में और तेजी आई है। इस दौरान एक दर्जन से अधिक बांग्लादेशी घुसपैठिए गिरफ्तार भी किए गए हैं। 

सीमांचल में सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर विरोध प्रदर्शन भी लगातार जारी है। 31 दिसंबर को केंद्रीय गृह राज्यमंत्री ने बांग्लादेश सीमा पर फुलबरिया कैंप में बीएसएफ के साथ बैठक कर हालात का जायजा लिया था। उन्होंने 29 फरवरी को भी नेपाल सीमा पर अवस्थित किशनगंज जिले के ठाकुरगंज में एसएसबी के उच्चाधिकारियों के साथ बैठक की। सूत्र बताते हैं कि गृह मंत्रालय सीमांचल को लेकर काफी गंभीर है और सीमा क्षेत्र में कड़ी निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। पैरा मिलिट्री फोर्स को भी अलर्ट कर दिया गया है। मंत्री ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के निरीक्षण के दौरान बांग्लादेश सीमा पर तैनात नॉर्थ बंगाल फ्रंटियर के आइजी समेत तमाम वरीय पदधिकारियों के साथ भी बैठक की थी। बीएसएफ और एसएसबी के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में मुख्य मुद्दा घुसपैठ और पशु तस्करी पर रोक था। 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस