जासं, पटना: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (सीबीएसई) ने 25 मई तक स्कूलों को दसवीं के छात्रों का रिजल्ट तैयार करने का मौका दिया है। बिहार में लॉकडाउन के कारण यहां के स्कूलों ने वर्चुअल मूल्यांकन कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए स्कूलों में मूल्यांकन कमेटी गठित हो चुकी है।

मूल्यांकन कमेटी का हुआ गठन

सीबीएसई पाटलिपुत्र सहोदय के पूर्व कोषाध्यक्ष एके नाग का कहना है कि स्कूलों में सात सदस्यीय मूल्यांकन कमेटी का गठन हो गया है। सीबीएसई के निर्देश पर स्कूलों के प्राचार्य को इसका अध्यक्ष बनाया गया है। कमेटी में पांच शिक्षक अपने स्कूल के होंगे। दो शिक्षक आसपास के स्कूलों के होंगे। बोर्ड ने निर्देश दिया है कि सभी  स्कूल 25 मई तक दसवीं का रिजल्ट तैयार कर लें। राज्य में लॉकडाउन लागू होने की स्थिति में बाहरी शिक्षकों को स्कूल में बुलाना संभव नहीं हो रहा है। लोगों को उम्मीद थी कि 15 के बाद लॉकडाउन समाप्त हो सकता है, लेकिन राज्य सरकार ने अवधि बढ़ाकर 25 मई कर दी है। कोरोना संक्रमण की स्थिति दिनों दिन गंभीर होती जा रही है।

कई स्कूलों में गर्मी की छुट्टी 

राजधानी के कई निजी स्कूलों ने गर्मी की छुट्टी कर दी है। कुछ में शनिवार से गर्मी की छुट्टी घोषित कर दी जाएगी। जिन स्कूलों में गर्मी की छुट्टी घोषित की गई है, वहां ऑनलाइन क्लास भी बंद कर दी गई है। अब 15 जून के बाद ही वहां ऑनलाइन क्लास शुरू होगी। बता दें कि देश की तरह ही बिहार में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए राज्य में लॉकडाउन लगाया गया है। साथ ही स्कूल और कॉलेजों में पहले से ही ताले लटके हैं। ऐसे में छात्र वर्चुअल ही क्लास अटेंड कर रहे हैं। कोरोना के कारण पिछले साल मार्च से ही स्कूल बंद हैं। इस दौरान कुछ दिन के लिए विद्यालय खुले भी पर कोरोना के बढ़ते मामलों को देख फिर बंद कर दिए गए।