पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Politics: बिहार की राजनीति का कोई भी दिन राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के नाम के बगैर नहीं खत्‍म होता है। मंगलवार को भी लालू बिहार में छाए रहे। लालू की बेटी रोहिणी आचार्य ने अपने पिता की जेल से रिहाई के लिए रमजान में रोखा रखने का ऐलान किया तो भाजपा नेता, पूर्व उप मुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने इसपर चुटकी ली। उन्‍होंने कहा कि लालू प्रसाद ना ठीक से हिंदू हो पाये, न इस्लाम की शिक्षा ग्रहण कर पाए। कोई भी धर्म गरीबों-दलितों को सताने की इजाजत नहीं देता। दरअसल लालू के जेल जाने के बाद उनके घर छठ की रौनक नहीं दिखती है। इस पर भी सुशील मोदी ने तंज कसा।

सुशील मोदी बोले- लालू के लिए रोजा और व्रत करने वाले ईमानदार नहीं

उन्होंने कहा आज जमानत पर उनकी रिहाई के लिए परिवार के जो सदस्य व्रत और रोजा, दोनों रखने करने की बात कर रहे हैं, वे दरअसल किसी भी उपासना पद्धति के प्रति ईमानदार नहीं हैं। उससे कुछ होने वाला नहीं। लालू परिवार सत्ता और संपत्ति के लिए ईश्वर-छठी मइया और अल्ला को भी धोखा देने की कोशिश करता रहा।

नरसंहारों और चारा घोटाले के लिए बताया जिम्‍मेदार

लालू प्रसाद ने अपने कुशासन काल में बिहार के लाखों लोगों को पलायन के लिए मजबूर किया, अपराधियों का दुस्साहस बढ़ाया, सत्ता में  बने रहने के लिए 100 से ज्यादा नरसंहार होने दिए, विकास को ठप कर लोगों को रोजगार से वंचित किया और मूक पशुओं के चारा तक में 1000 करोड़ का घोटाला किया। उन्हें न्यायिक प्रक्रिया के तहत जो सजा मिली है, उसे पूरा कर अपने किये का प्रायश्चित करना चाहिए।

हार ममता बनर्जी रहीं और सदमा तेजस्वी को लग रहा : संजय

इधर, प्रदेश जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि पश्चिम बंगाल चुनाव में हार रहीं ममता बनर्जी और सदमा बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को लग रहा। बंगाल की जनता ममता बनर्जी को नकार रही है तो तेजस्वी यादव चुनाव आयोग पर आरोप लगा रहे हैैं। जितनी परेशान ममता बनर्जी नहीं उससे अधिक परेशान तेजस्वी हैं।

चुनाव जीतने पर सब कुछ ठीक हारने पर ईवीएम का दोष

संजय ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष की परेशानी इस बात को लेकर है कि वह अपना भविष्य देख रहे हैं। यही वजह से कि वह चुनाव आयोग का विरोध कर रहे हैं। दरअसल तेजस्वी यादव का अंदाज दोहरे चरित्र वाला है। जब वह जीत रहे होते हैं तो ईवीएम और चुनाव आयोग सभी सही और जब हार रहे होते हैं तो सारा दोष केंद्र और सरकार की एजेंसी का हो जाता है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप