पटना, जेएनएन। पटना में तेज बारिश के बाद हुई जलजमाव की स्थिति और उसके उपायों की समीक्षा के लिए बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने सोमवार को एक उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। बैठक में संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ-साथ मंत्री भी मौजूद हैं। लेकिन पटना के विधायकों और सांसदों इस बैठक में नहीं बुलाया गया है जिसपर उन्होंने नाराजगी जाहिर की है। इसके बाद सीएम ने कहा कि उन्हें तो अलग से बुलाएंगे।

ये कहा-सांसदों और विधायकों ने  

पाटलिपुत्र से बीजेपी के सांसद रामकृपाल यादव ने कहा कि हमें तो मीडिया के जरिए बैठक का पता चला है और इस समीक्षा बैठक में विधायकों और सांसदों को नहीं बुलाना, ये दुख की बात है। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों को नहीं बुलाना चिंता का विषय है, क्योंकि जनता जनप्रतिनिधियों को ही गाली देती हैं।  

वहीं, बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र के बीजेपी विधायक नितिन नवीन ने कहा कि हमें उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री जी आज की बैठक में हमलोगों को जरूर बुलाएंगे, लेकिन बैठक में जनप्रतिनिधियों को नहीं बुलाना दुख की बात है। जनता की गाली विधायक और सांसद ही सुनते हैं। ग्राउंड जीरो पर जनप्रतिनिधि ही होते हैं, फिर भी हमारी सलाह नहीं ली जा रही है, जो बेहद आश्चर्य की बात है।

नितिन नवीन ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसपर हमलोगों से जरूर सलाह लेंगे और जलजमाव के गुनाहगारों को जरूर सजा मिलेगी।

बीजेपी के ही एक और विधायक संजीव चौरसिया ने भी सीएम के इस कदम से असहमति जताते हुए कहा कि जलजमाव को लेकर जनता में जो उबाल है, उनका गुस्सा जनप्रतिनिधियों को ही झेलना पड़ता है। इस बैठक में विधायकों से भी सलाह लेना जरूरी था। हम उम्मीद करते हैं कि सीएम नीतीश कुमार बहुत जल्द हम विधायकों के साथ भी बैठकर समीक्षा बैठक करेंगे।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस