पटना। पटना के विस्तार को गति और सार्थकता प्रदान करने के लिए बिहार राज्य पथ परिवहन निगम कमर कस चुका है। योजना के अनुसार पटना के आसपास के शहरों में ¨रग सर्विस तहत निगम की बसें चलेंगी। बिहटा से इसका ट्रायल भी शुरू कर दिया गया है। जल्द ही छपरा और बिहारशरीफ तक ¨रग सर्विस शुरू होगी। परिवहन सुविधा स्तरीय और सुगम होने से इन इलाकों को तेजी से विस्तार होगा और उद्योग भी अधिक पनप सकेंगे।

प्रकाश पर्व के मौके पर निगम को बुडको से 124 बसें मिली थीं। इससे निगम के पास बसों की किल्लत दूर हो चुकी हैं। निगम को 108 बसें और मिलने वाली हैं। इससे वह आसानी से योजना को अमली जामा पहनाने में सक्षम होगा।

परिचालन से ऐसे होगा लाभ

पटना से 30 किमी दूर बिहटा में काफी आबादी बस गई है। कई शिक्षण संस्थानों के साथ ही फैक्ट्रियां बन गई। एयरपोर्ट तक बनाए जाने की घोषणा हो चुकी है। वहां की बड़ी आबादी का रोज पटना आना-जाना रहता है। यातायात सुगम हो जाने से वह राजधानी के हिस्से की तरह हो जाएगा। योजना के अनुसार पटना से बिहार शरीफ, छपरा, गया, फतुहा और हाजीपुर तक ¨रग बसों का परिचालन किया जाएगा।

50 किलोमीटर का इलाका जुड़ेगा

बिहार राज्य पथ परिवहन निगम डीटीडीसी की तरह पटना के 50 किलोमीटर के दायरे में ¨रग सर्विस के रूप में बसों का परिचालन करेगा। बुडको से मिले बसें इसमें चलाई जाएंगी। इससे आबादी का बड़ा हिस्सा तो लाभान्वित होगा ही निगम की आमदनी भी काफी बढ़ जाएगी। प्रथम चरण में पटना से बिहटा वाया मनेर एवं वाया नेउरा, सदीसोपुर तक बसों का परिचालन किया जाएगा। अभी ट्रायल के रूप में तीन-चार बसों का परिचालन भी शुरू कर दिया गया है।

हाईटेक होंगी बसें

¨रग सर्विस में जो बसें चलाई जाएंगी, उनमें सीसी कैमरे के साथ ही जीपीएस भी लगाए गए हैं, ताकि किसी तरह की घटना पर पूरी नजर रखी जा सके। सीसी कैमरे और जीपीएस निगम मुख्यालय में कंप्यूटराज्ड नियंत्रण कक्ष से जुड़े रहेंगे। नियंत्रण कक्ष शीघ्र बनाने की योजना है। इससे महिला यात्रियों की सुरक्षा तो सुनिश्चित होगी ही, ड्राइवर व कंडक्टर पर भी नजर रखी जा सकेगी। परिचालन के लिए परमिट भी मिल चुकी है। दीघा रेल सह सड़क पुल बन जाने के बाद छपरा भी पचास किमी के अंदर आ जाएगा।

कोट

-------

पथ परिवहन निगम की ओर से पटना व आसपास के क्षेत्रों के लिए लोकल बस सेवा शुरू की गई है। इन बसों में सीसी कैमरा और जीपीएस भी लगे हुए हैं। इससे महिला यात्रियों की सुरक्षा के साथ ही चालक व कंडक्टर पर भी नजर रखने में सुविधा होगी। आसपास के इलाके राजधानी के निकट हो जाएंगे।

चौधरी अनंत नारायण, मुख्य परिचालन अधिकारी, बिहार राज्य पथ परिवहन निगम।