पटना, राज्‍य ब्‍यूरो। रोड सेक्टर में इस वर्ष बिहार  में बड़े स्तर पर निवेश की संभावना बन रही है। नवघोषित राष्ट्रीय उच्च पथ को मंजूरी दिए जाने का सिलसिला आरंभ हुआ है। इसके अतिरिक्त कई जगहों पर बाईपास निर्माण की योजना के लिए भी राशि उपलब्ध कराया जाना भी शुरू हुआ है। पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने शुक्रवार को बताया कि राष्ट्रीय उच्च पथ 219 (मोहनियां-भभुआ-चैनपुर-चांद) में बाईपास निर्माण की योजना स्वीकृत हो गयी है। शीघ्र ही इसकी निविदा जारी होगी। इस योजना पर 194 करोड़ रुपए खर्च होने  हैं।

एनएच 219 मोहनिया में एनएच-2 से निकलकर भभुआ, चैनपुर व चांद होते हुए उत्तर प्रदेश के चंदौती में एनएच-2 से जाकर मिलती है। चांद में 2.40 किमी लंबा बाईपास बनाया जाना है। इसके अतिरिक्त भभुआ में 7.35 किमी लंबा बाईपास बनना है। पथ निर्माण मंत्री ने बताया कि दरअसल मुख्यमंत्री के सात निश्चय-2 के तहत मुख्यमंत्री सुलभ संपर्कता योजना के तहत बाईपास का निर्माण कराया जाना है।

नवघोषित राष्ट्रीय उच्च पथों के निर्माण की मंजूरी का सिलसिला भी आरंभ हुआ है। इसके तहत भी बड़ा निवेश होना है। दरभंगा-रोसड़ा एनएच इसी श्रेणी में है। इसके निर्माण पर 495 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसी तरह मोहनिया-रामगढ़-चौसा भी नवघोषित एनएच है। इसके निर्माण के लिए 428 करोड़ रुपए की मंजूरी प्रदान की गयी है। इसी तरह राजधानी में भी दो नई परियोजनाओं का इस वर्ष काम आरंभ होगा। इसमें गंगा पथ के तहत नुरुद्दीन घाट से धर्मशाला घाट के बीच एलिवेटेड सड़क का निर्माण तथा दानापुर से बिहटा के बीच बहुप्रतीक्षित एलिवेटेड कारिडोर का निर्माण शामिल है। एडीबी के सहयोग से कई राज्य उच्च पथ के काम भी आरंभ होंगे।