पटना, राज्य ब्यूरो । Bihar Politics: 243 सदस्यीय विधानसभा में स्पीकर चुनाव के लिए मत विभाजन के दौरान कुल 240 सदस्यों की गिनती हुई। जाहिर है, तीन सदस्य कम पाए गए। इसमें एक प्रोटेम स्पीकर जीतनराम मांझी है, जो चुनाव करा रहे थे। दूसरा विधायक बसपा के जमां खान हैं। तीसरे के बारे में कहा गया कि एआइएमआइएम के पांच में से चार ने ही वोट किया, लेकिन अख्तरुल ईमान ने इसका पुरजोर खंडन किया है। जागरण से बातचीत में उन्होंने कहा कि मेरे साथ पांचों विधायक सदन में महागठबंधन के पक्ष में मुस्तैदी से खड़े थे।

आखिर वो कौन थे

उधर, राजद के मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने दावा किया कि गिनती में गड़बड़ी हुई है। तेजस्वी यादव की अपील पर 116 विधायक सदन में मौजूद थे। बता दें कि कल ,25 नवंबर को विधान सभा स्‍पीकर के चुनाव के दौरान एनडीए प्रत्‍याशी के पक्ष में 126 वोट पड़े और महागठबंधन के प्रत्‍याशी अवध बिहारी चौधरी के पक्ष में 114 । कुल हुए 240। दो का पता है, मगर एक अनुपस्थित विधायक का पता नहीं चल पा रहा है। यह अब तक रहस्‍य ही बना हुआ है।

 मायावती के निर्देश पर नहीं पहुंचे विधान सभा

बिहार में विधानसभा अध्यक्ष (Vidahan Sabha Speaker) पद के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (BSP) को न भाजपा (BJP) का प्रत्याशी रास आया न राजद (RJD) का। मायावती ने बिहार में अपनी पार्टी के जीते एकमात्र विधायक को सदन में अध्यक्ष पद के चुनाव में मत विभाजन के दौरान दोनों गठबंधनों से बराबर की दूरी बनाए रखने की हिदायत दी है। बसपा प्रमुख के निर्देश पर अमल करते हुए बसपा विधायक मो. जमां खान ने बुधवार (25 November) को पटना में मौजूद रहने के बावजूद सदन का रुख नहीं किया।

स्‍वीकार किया, अनुपस्थित थे

मत विभाजन प्रक्रिया में दूसरे विधायक के नहीं रहने को लेकर संशय है। सभा सचिवालय में भी इसका हिसाब नहीं है। मत विभाजन प्रक्रिया से दूर रहने वाले बसपा विधायक जमां खान भभुआ जिले के चैनपुर विधानसभा क्षेत्र से चुने गए हैं। बिहार में वह अपनी पार्टी के इकलौते विधायक हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि मायावती के निर्देश पर उन्होंने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। किंतु गुरुवार को राज्यपाल के संयुक्त अभिभाषण में शिरकत करेंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021