पटना, आनलाइन डेस्क। बिहार में जातिगत जनगणना और बिहार को विशेष राज्य के दर्जे पर सियासत तेज है। इन सब के बीच आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अपने छात्र जनशक्ति परिषद को मजबूत करने में जुटे हुए हैं। तेजप्रताप यादव ने एक बार फिर से अपने संगठन के पोस्टर में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को जगह नहीं दी है। छात्र जनशक्ति परिषद के पोस्टर में राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी (Rabri Devi) देवी की तस्वीर है, लेकिन नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को इस पोस्टर में जगह नहीं दी गई है। इसको लेकर उन्होंने सफाई दी है कि पोस्‍टर नहीं, दिल में तस्‍वीर रहनी चाहिए।

'सीएम कैंडिडेट हैं तेजस्वी यादव'

सोमवार को छात्र जनशक्ति परिषद की बैठक तेजप्रताप यादव के नेतृत्व में उनके आवास पर हुई। इस बैठक में छात्र जनशक्ति परिषद की और से जो पोस्टर लगाया गया, उसमें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को जगह नहीं दी गई। पोस्टर में आरजेडी के सुप्रीमो लालू यादव, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की तस्वीर के साथ तेजप्रताप यादव की तस्वीर को तरजीह दी गई। पोस्टर में तेजस्वी की तस्वीर नहीं होने पर जब संवाददाताओं ने तेजप्रताप यादव से पूछा तो उन्होंने अजीबोगरीब सफाई दी। कहा कि तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री का चेहरा हैं। जिस तरह से सीएम नीतीश कुमार की अकेली की तस्वीर लगती है, वैसे ही पार्टी के लोग तेजस्वी की तस्वीर लगाते हैं। तेजप्रताप ने कहा कि तेजस्वी संवैधानिक पद पर हैं।

कहा: दिल में होनी चाहिए तस्वीर

तेजप्रताप यादव ने कहा कि होर्डिंग में किसकी तस्वीर है या नहीं है, इससे फर्क नहीं पड़ता। दिल में तस्वीर होनी चाहिए। तेजप्रताप यादव ने कहा कि जो तस्वीर दिल में बसेगी वो मरते दम तक रहेगी।

पोस्‍टरों में पहले भी नहीं दी है जगह

गौरतलब है कि इससे पहले भी जनमाष्टमी के मौके पर पटना की सड़कों पर तेजप्रताप यादव की तरफ से जो होर्डिंग लगवाए गए थे, उनमें तेजस्वी यादव को जगह नहीं दी गई थी। बाद में तेजप्रताप ने ट्वीट कर नई तस्वीर जारी की थी, जिसमें तेजस्वी यादव को भी शामिल किया गया था। 

Edited By: Rahul Kumar