पटना, आनलाइन डेस्‍क। यौन शोषण के मामले में समस्‍तीपुर के राष्‍ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद प्रिंसराज (Samastipur MP Prince Raj) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। उनपर दुष्‍कर्म का आरोप लगाने वाली युवती ने अग्रि‍म जमानत को चुनौती दी है। इस आलोक में दिल्‍ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने सांसद को नाेटिस जारी किया है। न्‍यायमूर्ति योगेश खन्‍ना ने याचिका पर सुनवाई करते हुए 17 फरवरी 2022 तक उन्‍हें जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। मालूम हो कि दिल्‍ली की राउज एवेन्‍यू कोर्ट ने सांसद को 25 सितंबर को अग्रिम जमानत दी थी। लोजपा (LJP) के संस्‍थापक व पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ex Minister Ramvilas Paswan) के भतीजे और सांसद चिराग पासवान (MP Chirag Paswan) के चचेरे भाई के खिलाफ कोर्ट के आदेश से बिहार में समर्थकों की चिंता बढ़ गई है। 

युवती ने लगाया है दुष्‍कर्म का आरोप 

बता दें कि शिकायतकर्ता युवती ने सांसद पर दुष्‍कर्म की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। दिल्‍ली की राउज एवेन्‍यू कोर्ट के आदेश पर प्रिंसराज पर दुष्‍कर्म का मामला दर्ज किया गया। युवती ने आरोप लगाया कि प्रिंसराज ने नशीली ड्रिंक पिला दी थी। इससे वह बेहोश हो गई। तब सांसद ने उससे संबंध बनाए। शादी का झांसा दिया। कोर्ट के आदेश के आलोक में सांसद प्रिंसराज पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी। दिल्‍ली पुलिस ने नौ सितंबर को मामला दर्ज किया था। इसके बाद सांसद ने अग्रिम जमानत की याचिका दायर की थी। 

प्रिंसराज को 25 सितंबर को मिली थी अग्रिम जमानत

हालांकि, शिकायतकर्ता के खिलाफ नौ फरवरी को ही सांसद एफआइआर दर्ज करा चुके हैं। इसमें हनी ट्रैप में फंसाने और रंगदारी का आरोप लगाया गया था। प्रिंस राज ने आरोप लगाया कि पिछले साल वह उस महिला से मिले थे। इसके बाद उसने करीबी बढ़ाई। दोनों के बीच नजदीकी ताल्‍लुकात बने थे। लेकिन इसी बीच पता चला कि वह महिला किसी के साथ लिव इन में रह रही थी। उन्‍होंने इसकी बाबत पूछा। इसके बाद उससे दूरी बना ली। सांसद ने यह आरोप भी लगाया कि महिला के मित्र ने आपत्तिजनक वीडियो लीक करने की धमकी दी। इसके एवज में एक करोड़ रुपये मांगे। तब दो लाख दिए लेकिन उनकी मांग जारी रही। इसके बाद उन्‍होंने दिल्‍ली पुलिस से शिकायत की थी।  

Edited By: Vyas Chandra