पटना, आनलाइन डेस्‍क। जदयू का राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को बनाए जाने पर बिहार के  मुख्‍य विपक्षी दलों ने तंज कसा है। अब इसपर जदयू के मुख्‍य प्रवक्‍ता सह विधान पार्षद नीरज कुमार ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। उन्‍होंने कहा है कि विपक्षी दलों के लोग सावधान हो जाएं। क्‍योंकि ललन बाबू का जो पॉलिटिकल और जुडिशियल इंजेक्‍शन होता है, वह बहुत कारगर एंटीबायोटिक होता है। उसका कोई तोड़ नहीं होता। इस क्रम में  नीरज कुमार ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव को भी आड़े हाथ लिया। 

जदयू प्रवक्‍ता ने कहा कि ललन बाबू के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनने से विपक्षी दलों में खलबली मच गई है। उनमें घबराहट है। और यह स्‍वाभाविक भी है। क्‍योंकि 2005 का विधानसभा चुनाव और उसमें सरकार बनाने में ललन सिंह की अहम भूमिका रही। इसलिए विपक्षी दलों को पता है कि ललन बाबू क्‍या हैं। इससे दल के कार्यकर्ताओं में भी खुशी है। ललन बाबू के इंजेक्‍शन से विपक्षी दलों की आह निकलती है तो जनता वाह वाह करती है।  

तेजस्‍वी को अभी परिपक्‍व होने की जरूरत 

नीरज ने कहा कि विपक्ष के नेता तेजस्‍वी यादव को राजनीतिक रूप से परिपक्‍व होना चाहिए। दूसरे दल के आंतरिक मामले में दखल देने से बचना चाहिए। उन्‍हें समझना चाहिए कि‍ जदयू, पारिवारिक लिमिटेड वाली पार्टी नहीं है। यहां लोकतंत्र है। ललन बाबू तो उनके दल के नेता को रात में भी याद आते हैं। दूसरे पर उंगली  उठाने से पहले उन्‍हें देखना चाहिए कि विधानसभा चुनाव में क्‍या हुआ। कांग्रेस का क्‍या हुआ, देख लीजिए।

नीतीश के नेतृत्‍व में हर वर्ग का विकास 

नीतीश कुमार की कार्यशैली ऐसी है जिससे समाज के हर वर्ग का विकास हो रहा है। कोई आहत नहीं है है।ललन बाबू ऐसी व्‍यक्तित्‍व हैं जिन्‍हें कोई प्‍यार करे या नफरत, कोई इनकार नहीं कर सकता। नीतीश कुमार के काम की पूंजी है जिसके साथ ललन बाबू संगठन को और विस्‍तार देंगे। संगठन और सरकार की  भूमिका और अन्‍य प्रदेशों में  पार्टी के विस्‍तार में उनकी अहम भूमिका रहेगी। 

Edited By: Vyas Chandra