राज्य ब्यूरो, पटना। एक जमाने में अपने को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान कहने वाले लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के जमुई सांसद चिराग पासवान को अब भाजपा का अंदाज चुभने लगा है। लोजपा को तोड़कर बागी बने चाचा पशुपति कुमार पारस और चचेरे भाई प्रिंस राज को भाजपा जिस अंदाज में महत्व दे रही वह चिराग पासवान के लिए यह साफ संकेत है कि एनडीए में अब उनके रास्ते बंद होने को हैं। भाजपा अब सार्वजनिक रूप से चिराग पासवान को एक के बाद एक इंजेक्शन दे रही।

आधे घंटे तक हुई दोनों की बातचीत

एक दिन पहले समस्तीपुर से सांसद प्रिंस राज के पिता रामचंद्र पासवान की पुण्य तिथि में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय जायसवाल की मौजूदगी रही। वहीं चिराग पासवान ने भी अलग से रामचंद्र पासवान की पुण्य तिथि पर अलग से कार्यक्रम किया था। गुरुवार को केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री पशुपति कुमार पारस ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से उनके दिल्ली स्थित आवास पर भेंट की। आधे घंटे तक की इस मुलाकात में रामचंद्र पासवान के पुत्र और लोजपा (पारस गुट) के बिहार अध्यक्ष सांसद प्रिंस राज भी मौजूद थे। इस मुलाकात से फिर चिराग पासवान को भाजपा ने इंजेक्शन दे दिया है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से चिराग पासवान अब दूर हो रहे, यह साफ संकेत है। 

शिष्टाचार मुलाकात बता रही पार्टी

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री पशुपति कुमार पारस की इस मुलाकात को वैसे उनकी पार्टी शिष्टाचार मुलाकात बता रही है। यह कहा जा रहा कि केंद्र में खाद्य प्रसंस्करण मंत्री बनने के बाद पशुपति कुमार पारस ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से फोन पर बात की थी। मंत्री बनने के बाद उनकी अमित शाह से यह औपचारिक मुलाकात थी। अंदरखाने में बात चाहे जो भी हुई हो पर लोजपा में टूट के बाद चिराग पासवान को फिर से बीजेपी ने झटका दिया है।