पटना, राज्य ब्यूरो: प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री व राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कर्पूरी ठाकुर जयंती के बहाने मंगलवार को विद्यापति भवन में आयोजित समारोह में राजद-जदयू को जमकर लताड़ा। उन्‍होंने कहा कि बिहार में आज नफरत का माहौल बनाया जा रहा है। मंत्री चंद्रशेखर रामचरितमानस जलाने की बात करते हैं तो बलियावी शहर को कर्बला बनाना चाहते हैं।

वहीं, मंत्री आलोक मेहता सवर्णों को अंग्रेजों का दलाल कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज समाज को तोड़ा जा रहा है। हिंदुओं को विभाजित करने के कुत्सित प्रयास हो रहे हैं, लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री कमजोर, लाचार और बेसहारा बने हुए हैं। कार्यक्रम का आयोजन भाजपा अतिपिछड़ा वर्ग मोर्चा ने किया था।

कार्यक्रम में कई दिग्‍गज नेता हुए शामिल 

विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि कर्पूरी के नाम पर राजनीति करने वाले लोग आज जातीय उन्माद पैदा करना चाहते हैं। बिहार की जनता सजग है, इन सब के बहकावे में नहीं आएगी। केंद्र सरकार अतिपिछड़ा समाज के विकास के लिए दृढ़संकल्पित है।

विधान परिषद में प्रतिपक्ष के नेता सम्राट चौधरी ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर जी ने 1977 में पहली बार अतिपिछड़ा समाज को आरक्षण दिया। लालू प्रसाद 15 वर्षाें तक सत्ता में रहे, लेकिन उन्होंने कभी भी इस वर्ग को आरक्षण नहीं दिया। उनकी पार्टी के लोग सिर्फ आरक्षण देने तथा आरक्षण बचाने की बात करते हैं, लेकिन आरक्षण कभी दिया नहीं।

सांसद अजय निषाद ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर अतिपिछड़ों की आवाज थे। डा. संजीव चौरसिया ने कहा कि कर्पूरी जी समाज के सभी वर्गों का ख्याल रखते थे। अभी बिहार में नफरत का वातावरण बनाया जा रहा है । सत्ता के लिए विचारों की तिलांजलि दी जा रही है। सभा की अध्यक्षता एवं संचालन ओबीसी मोर्चा के प्रदेश महामंत्री कैप्टन कमलेश सहनी एवं कार्यक्रम संयोजन शिवपूजन राम ने किया। सभा को नंदकिशोर यादव, प्रेम कुमार, प्रमोद कुमार, नितिन नवीन, प्रमोद चन्द्रवंशी, विधायक मिथिलेश कुमार, पटना के महापौर सीता साहू, उपमहापौर रेशमी चन्द्रवंशी ने संबोधित किया।

यह भी पढ़ें- नक्सलियों ने पर्चा छोड़कर पुल निर्माण संवेदक से मांगी 30 लाख की लेवी, लिखा- देखेंगे, पुलिस कितना देगी साथ

Edited By: Prateek Jain

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट