राज्य ब्यूरो, पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को हवाई सर्वे कर जहानाबाद, गया एवं औरंगाबाद जिले में अल्प वर्षापात से उत्पन्न स्थिति का जायजा लिया। संयोग यह रहा कि जिन जिलों में मुख्यमंत्री ने हवाई सर्वे किया वहां आज अच्छी बारिश हुई। मुख्यमंत्री संबंधित जिले के अधिकारियों को यह निर्देश दिया कि वे पूरी स्थिति पर नजर रखें और किसानों को सहायता दिए जाने की पूरी तैयारी रखें मुख्यमंत्री वापस पटना सड़क मार्ग से लौटे। 

इन जगहों का मुख्यमंत्री ने हाल देखा 

हवाई सर्वे के दौरान मुख्यमंत्री ने जहानाबाद जिले मोदनगंज, घोसी, मखदुमपुर  प्रखंड, गया जिले के अतरी, वजीरगंज, टनकुप्पा, मोहनपुर, बाराचट्टी, डोभी, आमस , गुरुआ, गुरारू प्रखंड तथा औरंगाबाद जिले के मदनपुर, देव, कुटंबा, नवीनगर,औरंगाबाद, रफीगंज तथा गोह प्रखंड में धान की रोपनी का जायजा लिया। 

मौसम खराब होने की वजह से गया में उतरना पड़ा 

मौसम खराब होने की वजह से हवाई सर्वेक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री को गया एयरपोर्ट पर उतरे। उन्होंने गया जिले के डीएम से अल्प वर्षापात के कारण धान की रोपनी की स्थिति की अद्यतन जानकारी ली और कई नर्देश दिए। 

निरीक्षण के बाद मुख्यमंत्री की हिदायतें 

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि कम बारिश होने की वजह से उत्पन्न स्थिति पर पूरी नजर रखें। किसानों को सहायता दिए जाने को ले पूरी तैयारी रहनी चाहिए। डीजल अनुदान योजना का लाभ किसानों को तेजी से दिलाया जाए, ताकि उन्हें राहत मिल सके। संभावित सूखे की स्थिति में किसानों को हर संभव मदद की योजना बनाएं। किसानों को 16 घंटे निर्बाध बिजली आपूर्ति  करें बिजली की उपलब्धता रहने से किसानों को कृषि कार्य में सहूलियत होगी। जितने क्षेत्र में धान की रोपनी हुई है उसका बचाव हो सकेगा। वैकल्पिक फसल योजना के तहत इच्छुक किसानों को जल्द से जल्द बीज उपलब्ध कराएं ताकि कृषि कार्य में मदद हो सके। 

सड़क मार्ग से पटना लौटे 

गया से मुख्यमंत्री सड़क मार्ग से पटना लौटे। वापसी के क्रम में उन्होंने मानपुर, खिजरसराय, इस्लामपुर, एकंगरसराय, हिलसा, दनियांवां तथा फतुहा प्रखंड के इलाके में धान रोपनी की स्थिति का जायजा लिया। 

इन्होंने भी जायजा लिया

मुख्यमंत्री के हवाई सर्वेक्षण में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, कृषि  विभाग के सचिव एन सरवन कुमार, आपदा सह जल संसाधन विभाग के सचिव संजय अग्रवाल व मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह भी  मौजूद थे।

Edited By: Rahul Kumar