वैशाली, जेएनएन: वैशाली थाने के कमतौलिया एवं पहाड़पुर गांव के 71 लोग विषाक्त प्रसाद खाकर बीमार हो गए। घटना की जानकारी मिलते ही दोनो गांवों में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। सूचना मिलने पर वैशाली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की मेडिकल टीम गांव में पहुंची और कैम्प कर सभी का इलाज कर रही है। सभी खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं।

कुछ लोगों की तबीयत 17 की रात से ही खराब

पहाड़पुर निवासी विजय महतो ने बताया कि गांव में कुछ लोगों ने 17 सितंबर को विश्वकर्मा की पूजा की थी। गांव के सभी लोग प्रसाद खाए थे। प्रसाद खाने के बाद  कुछ लोगों की तबीयत 17 तारीख की देर रात से ही खराब होने लगी। वहीं 18 सितंबर को देखते-देखते 40-50 लोगों को उल्टी, दस्त आदि होना चालू हो गया। बीमार होने पर लोगों ने पहले ग्रामीण चिकित्सक द्वारा अपना इलाज कराया । विजय महतो, मनोज भगत, मालती देवी, महेश महतो, मनोज कुमार, सुदेश महतो, भुवनेश्वर महतो, जयदयाल महतो, विजय महतो, संजय महतो, जलेश्वर महतो, संतोष कुमार, बबलू कुमार, श्यामसुंदरी देवी, सरिता देवी सहित 71 लोगों की तबीयत खराब हुई।

चिकित्सा पदाधिकारी को दी सूचना

बुखार, कै-दस्त और हाथ-पैर में दर्द होने लगा।  स्थिति बिगड़ते देख लोगो ने शनिवार की सुबह 8 बजे इसकी सूचना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र वैशाली के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. ललन कुमार राय को दी। प्रभारी पदाधिकारी द्वारा फौरन पहाड़पुर कमतौलिया गांव में मेडिकल टीम भेजी जिसमें डॉ. कौशल किशोर मिश्रा, डॉ. निशांत कुमार, एएनएम प्रमिला कुमारी, मनोज कुमार आदि शामिल थे। तत्काल सभी का इलाज शुरू किया गया।

सभी इलाजरत लोग खतरे से बाहर 

ग्रामीणों ने बताया कि 50 वर्षीय मानती देवी एवं 40 वर्षीय शारदा देवी का इलाज लालगंज में प्राइवेट डॉक्टर के यहां कराया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. ललन कुमार राय ने बताया कि मेडिकल टीम गांव में कैम्प कर इलाज कर रही है। कुछ लोग को बुखार है। वैसे सभी इलाजरत लोग खतरे से बाहर हैं। उन्हें जरूरी दवा दी जा रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस