पटना [वेब डेस्क]। जम्मू-कश्मीर के उड़ी में सेना के बेस पर हुए आतंकी हमले में 20 जवान शहीद हो गए। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, शहीद जवानों में 15 बिहार रेजिमेंट और 2 डोगरा रेजिमेंट के हैं। वहीं इस हमले में 22 जवान घायल हो गए हैं जिनमें तीन की स्थिति गंभीर बनी हुई है। सभी घायल जवानों का इलाज श्रीनगर स्थित सेना के 92 बेस अस्पताल में चल रहा है।

इस आतंकी हमले में बिहार रेजिमेंट के शहीद 15 जवानों में से तीन बिहार के रहने वाले हैं। वहीं घटना में शामिल चार आतंकियों को सेना के जवानों ने मार गिराया है।

पिछले 26 सालों में आर्मी बेस पर हुआ यह सबसे बड़ा हमला है। इस आतंकी हमले के बाद बिहार के सभी आर्मी कैंप की भी सुरक्षा बढ़ाई दी गई है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आर्मी ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर रविवार की सुबह आतंकी हमले में 17 जवान शहीद हो गए। इनमें से 15 जवान बिहार रेजिमेंट के बताए जा रहे हैं। शहीदों को लेकर बिहार में गर्व व शोक की लहर दौड़ गई है। शहीदों के संबंध में जानने के लिए लोग आतुर हो रहे हैं। साथ ही ऐसी घटनाओं के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए पाकिस्तान पर कड़ी कार्रवाई की मांग भी कर रहे हैं।

राजधानी पटना में आज लोजपा के कार्यकर्ताओं और बड़ी संख्या में युवाओं ने कैंडिल मार्च निकाल कर शहीदों को नमन किया और उनकी शहादत पर शोक व्यक्त करते हुए दो मिनट का मौन रखा। पूरे प्रदेश में शहीदों के लिए शोक की लहर व्याप्त है लेकिन प्रदेश वासियों को अपने देश के लिए कुर्बान होने वाले अपने माटी के लाल पर गर्व भी है। लोगों ने कहा कि आतंकियों को भी मार गिराया हमारे जवानों ने। आतंक जब-जब अपना सर उठाएगा उसका सर एेसे ही हमारे जवान कुचल डालेंगे।

चार आतंकियों को जवानों ने मार गिराया

लाइन ऑफ कंट्रोल के नजदीक उरी सेक्टर में मौजूद आर्मी हेडक्वार्टर में आतंकी घुसे । कुछ बैरक में आग लगा दी। सिक्युरिटी फोर्सेज ने तुरंत एक्शन लेते हुए हालात संभालने के लिए पैराकमांडो की टीम को मौके पर एयरड्रॉप किया। ऑपरेशन में 4 आतंकी भी मारे गए।

हमले के बाद इस बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अपना विदेश दौरा टाल दिया है। आपात बैठक बुलाई गई है पीएम मोदी ने कहा कि हमलावरों को किसी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।

नीतीश ने कहा - आतंक के मुद्दे पर केंद्र के साथ हूं

अातंकी हमले प्रर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शहीदों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट की है। उन्होंने इस हमले की निंदा करते हुए कहा कि हमारे वीर सैनिकों ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया। उरी हमले की निंदा करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि आतंकी हमले के खिलाफ केन्द्र सरकार कड़ी कार्रवाई करे, मैं आतंक के खिलाफ केन्द्र सरकार के समर्थन में खड़ा हूं।

सुशील मोदी ने कहा - हमले का लेंगे बदला

भाजपा नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी उरी आतंकी हमले पर ट्वीट कर कहा कि अब वक्त आ गया है, जैसे को तैसा जवाब देकर इसका बदला लेंगे।

लालू ने कहा - कड़ी कार्रवाई करे सरकार

उरी आतंकी हमले की कड़ी निंदा करते हुए राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कहा कि इस हमले की जितनीं निंदा की जाए कम है इसके लिए केंद्र सरकार को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।

2001 में जैश-ए-मोहम्मद ने किया था फिदायीन हमला

इसके पहले अक्टूबर 2001 में जैश-ए-मोहम्मद ने श्रीनगर में जम्मू कश्मीर विधानसभा कॉम्प्लेक्स पर जीप में एक्सप्लोसिव्स के जरिए फिदायीन हमला किया था, जिसमें 38 की मौत हो गई थी। सेना की बात करें तो कश्मीर में 26 साल में पहली बार किसी आर्मी बेस पर इतना बड़ा हमला हुआ है।

आतंकी हमले से नीतीश आहत, लालू ने पूछा- कहां गया 56 इंच का सीना?

आतंकियों के इस हमले का सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। इसमें 6 बिहार बटालियन के सैनिकों ने भी देश के लिए जान की बाजी लगा दी। सेना के शहीद हुए 17 जवानों में 15 बिहार बटालियन के ही हैं। उरी हमले में शहीद जवानों के नाम हैं-

उड़ी हमले में शहीद 19 में से 17 जवानों के नाम

छह बिहार रेजीमेंट के हवालदार एनएस रावत, हवालदार अशोक कुमार सिंह, नायक एसके विद्यार्थी, लांस नायक जीसी शंकर, सिपाही यूपी जनाराओ, सिपाही राकेश सिंह, सिपाही आरके यादव, सिपाही नैयमन कुजुर, सिपाही गणेश शंकर, सिपाही टीएस सोमनाथ, सिपाही जीडी दालोई, सिपाही राजेश सिंह, सिपाही बी घोराए, सिपाही जवार मुडा, सिपाही हरेंद्रा यादव।

10 डोगरा के सूबेदार करनैल सिंह और हवालदार रविपाल

हमले में घायल जवानों के नाम

घायलों में सेना की 6 बिहार रेजिमेंट के नायक वीके गिरी, नायक राम सुरुप जाट, सिपाही हरम सिंह, लांसनायक एसके ओरन, सिपाही बीजी सरकार, हवलदार सुनील कुमार, सिपाही सीएनके चंद्रमणी, हवालदार रामदेव, शाम लाल, लांसनायक मुन्ना सिंह, सिपाही सतीश कौशिक,हवालदार बीजी बारिल के अलावा सेना की 10 डोगरा रेजिमेंट के हवालदार मंजीत कुमार, नायक विजय कुमार, हवलदार जसवंत सिंह, सिपाही कमल कांत और एक अन्य सैन्यकर्मी सतीश कुमार शामिल है।

कश्मीर में आंतकी हमले पर तेजस्वी बोले, अब तो एक्शन लीजिए मोदी जी

देश के लिए शहादत देने वाले बिहार के जांबाज जवानों को लेकर बिहार में गर्व मिश्रित शोक का माहौल है। बिहार के जम्मू-कश्मीर में पदस्थापित सैनिकों से उनके परिजन संपर्क कर रहे हैं। जिनका संपर्क नहीं हो पा रहा, वे चिंतित नजर आ रहे हैं।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस