रिविलगंज (सारण), जागरण संवाददाता।  सारण जिले के रिविलगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत देवरिया गांव में शनिवार की सुबह एक साथ पिता-पुत्र की अर्थी निकली। पिता की मौत शुक्रवार की दोपहर हार्ट अटैक से हो गई थी। रात में पटना मेडिकल कालेज अस्पताल (पीएमसीएच) में बेटे की मौत हो गई। बताया जाता है कि आर्थिक तंगी के कारण बेटे का निजी अस्पताल में इलाज न कराने की चिंता पिता को खाये जा रही थी। इस घटना ने सभी को गमगीन कर दिया।

जानकारी के अनुसार, देवरिया गांव के रहने वाले 62 वर्षीय अशोक पांडे के पुत्र 22 वर्षीय रंजीत पांडेय का विवाद पिछले मंगलवार को पचपतरा गांव में बरात में आए आर्केस्ट्रा देखने के दौरान कुछ युवकों से हो गया था। इसके बाद रंजीत पांडे को जख्मी हालत में एक खेत के पास से बरामद किया गया। उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां से प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर उपचार के लिए पटना रेफर कर दिया गया था। उसे पटना के सगुना मोड़ स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। पैसों की कमी पर स्वजनों ने गुरुवार को डिस्चार्ज कराकर पटना के पीएमसीएच में भर्ती कराया। आर्थिक तंगी से जूझ रहे अशोक पांडेय काफी चिंतित व परेशान थे। स्वजनों के अनुसार वे डिप्रेशन में भी थे। वे पूजा-पाठ कर एवं अष्टयाम में गीत गाकर परिवार का भरण-पोषण करते थे। शुक्रवार की दोपहर उनकी मौत हो गई। उनकी मौत के बाद घर पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। अभी लोग दाह संस्कार की बात सोच ही रहे थे, तभी शुक्रवार की देर रात पटना में इलाज के दौरान रंजीत पांडेय ने भी दम तोड़ दिया। पिता-पुत्र की मौत के बाद घर में कोहराम मच गया है।

इस संबंध में थानाध्यक्ष रामसेवक रावत ने कहा कि जख्मी रंजीत पांडेय की हमले में मौत के मामले में अभी तक कोई आवेदन नहीं आया है। आवेदन आने पर तत्काल उचित कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Sumita Jaiswal