पटना, राज्य ब्यूरो। देश में काेराेना वायरस की दस्‍तक व दहशत का असर अब बिहार में भी देखने को मिलने लगा है। पूरा बिहार अलर्ट मोड में आ गया है। स्‍वास्‍थ्‍य महकमे के वरीय अधिकारियों के साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय खुद आज जायजा लेने निकले थे। और तो और, बुधवार को सीएम नीतीश कुमार ने भी इनिशिएटिव लेते हुए वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग से जिलों के डीएम-एसपी से बात की। कहा- लोगों को जागरूक करें। सरकार पूरी तरह सतर्क है। उन्‍होंने यह भी कहा कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है। उन्होंने सभी जिलों के डीएम को अपने-अपने क्षेत्र की पंचायतों में नियमित रूप से ग्राम सभा की बैठकें करके लोगों को जागरूक करने की व्यवस्था करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही सीएम ने एक अणे मार्ग स्थित संकल्प में कोरोना वायरस को लेकर मुख्य सचिव दीपक कुमार के साथ उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की। 

बिहार में अब तक 49 लोगों की हुई जांच

बता दें कि अब त‍क बिहार में 49 लोगों को संदेह के आधार पर जांच करायी गयी है। इसमें से 45 लोगों की निगेटिव रिपोर्ट आयी है। एक मामला रिजेक्‍ट कर दिया गया है, जबकि बाकी की रिपोर्ट वेटिंग में है। पटना जंक्‍शन पर आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। एयरपोर्ट पर भी जांच की व्‍यवस्‍था की गई है। इसी तरह, नेपाल बॉर्डर के इलाके में भी विशेष जांच चलाई जा रही है। मधुबनी जिले में पड़ने वाले सीमावर्ती क्षेत्रों में चौकसी बढ़ा दी गई है। नेपाल से बिहार आनेवाले लोगों की स्क्रीनिंग कराई जा रही है। 

सीएम ने कहा, अलर्ट रहे स्‍वास्‍थ्‍य विभाग

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों से कहा कि स्वास्थ्य विभाग को पूरी तरह अलर्ट कर दें और सभी जरूरी उपाय किए जाएं। उन्‍हाेंने मुख्य सचिव को राज्य के सभी अस्पतालों में समुचित व्यवस्था एवं जरूरी दवाएं उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया। कहा कि भारत-नेपाल सीमा पर खासकर सीमा से सटे बिहार के जिलों पर विशेष निगरानी रखी जाए। खासकर वैसी जगहों पर जहां से लोग एक-दूसरे देश में आते-जाते हैं। पटना एवं गया हवाई अड्डे पर आने-जाने वाले लोगों पर नजर रखी जाए। उन्होंने आम लोगों से भी भीड़-भाड़ वाली जगहों से परहेज करने और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने की अपील की। 

देश में 28 लोगों में वायरस से दहशत में लोग

गौरतलब है कि देश के 28 लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद बिहार में भी दहशत है। इसका असर पटना के गोविंद मित्रा रोड समेत शहर की अन्य दवा दुकानों में मास्क की बढ़ी कीमतों से समझा जा सकता है। डॉक्टरों के बताया कि वायरस को जानने और चीन में हुई मौतों से लोगों में डर समा गया है, अन्यथा प्लेग और हाल में सार्स वायरस इससे ज्यादा खतरनाक थे। कोरोना वायरस 26 से 27 डिग्री सेल्सियस तापमान पर खुद ब खुद खत्म हो जाते हैं। वर्तमान में पटना का तापमान करीब 30 डिग्री सेल्सियस हो गया है। ऐसे में कोरोना वायरस की सही जानकारी हो तो उससे आसानी से बचा जा सकता है।

इसे भी जानें

पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉ. सत्येंद्र नारायण सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस फेफड़ों को प्रभावित करने वाला एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम है। यह संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने से अपने चारों ओर करीब डेढ़ मीटर के लोगों को चपेट में लेता है।

जानकारी बचाव का सबसे अच्‍छा उपाय

यूनिसेफ गाइडलाइन के हवाले से मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉ. आनंद शंकर ने हाथ-मुंह धोने या सैनिटाइज की जानकारियां दीं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की कोशिका का व्यास करीब 500 माइक्रो होता है। सामान्य मास्क भी इससे बचा सकता है। यह हवा से नहीं फैलता है। यह धातु की सतह पर 12 घंटे, कपड़ों पर नौ घंटे और हाथों में दस मिनट तक जीवित रह सकता है। ऐसे में बाहर से जब भी आएं साबुन से हाथ-मुंह धोएं। बाहर जाने पर अल्कोहल सैनिटाइजर जेब में रखें। बीच-बीच में हाथ सैनिटाइज करते रहें। धूप में दो घंटे में कोरोना वायरस खत्म हो जाते हैं। गुनगुना पानी पीने और सूर्य की रोशनी में रहने से भी संक्रमण का खतरा काफी कम हो जाता है। 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस