पटना, जेएनएन। माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा (STET) में बीएड (B.Ed.) या प्रशिक्षित अभ्यर्थियों को राज्य सरकार ने रियायत देने का निर्णय लिया है। उसके मुताबिक अब इन अभ्यर्थियों को अधिकतम उम्रसीमा में 10 वर्ष तक की छूट मिलेगी। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) के सचिव को पत्र भेजा है।

राज्य सरकार के इस निर्णय के बाद अब सामान्य वर्ग के अधिकतम 47 वर्ष की आयु तक के अभ्यर्थी एसटीईटी(STET) की परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। इसी प्रकार पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थी और महिलाएं 50 वर्ष और एससी-एसटी के अभ्यर्थी 52 वर्ष की उम्रसीमा तक इसके लिए आवेदन कर सकेंगे।

सरकार के निर्णय के बाद बीएसईबी (BSEB) एक बार फिर एसटीईटी (STET) की परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन की नई तिथि जारी करेगा।

पटना हाईकोर्ट में दायर की गई थी एलपीए

बता दें कि इसके पहले अभ्यर्थियों को उम्र सीमा में छूट देने के निर्णय के खिलाफ बिहार सरकार ने पटना हाईकोर्ट में विधि विभाग के माध्यम से एलपीए दायर की थी। शिक्षा विभाग के अधिकारी ने बताया कि अब ये एलपीए कोर्ट से वापस ले लिया जाएगा।

पटना हाईकोर्ट के सिंगल बेंच ने इस मामले में अपना फैसला दिया था कि 2011 के बाद एसटीईटी की परीक्षा आयोजित नहीं की गई है, इसलिए अभ्यर्थियों को कम से कम उम्रसीमा में आठ साल की छूट मिलनी चाहिए।

मालूम हो कि राज्य के हाईस्कूलों में 37335 शिक्षकों की बहाली के लिए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा 7 नवंबर को एसटीईटी की परीक्षा ली जानी थी। लेकिन हाईकोर्ट की उम्रसीमा में छूट देने के निर्णय के बाद परीक्षा स्थगित कर दी गई थी, अब समिति द्वारा नई तारीख का एेलान किया जाएगा। 

 अभ्यर्थियों के लिए तय थी ये उम्र सीमा

सामान्य प्रशासन विभाग की गाइडलाइन के अनुसार अभी सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए अधिकतम उम्रसीमा 37 वर्ष, महिला, पिछड़ा व अति पिछड़ा वर्ग के लिए 40 और एससी-एसटी के लिए 42 वर्ष तय है। वहीं, 9वीं व 10वीं कक्षा के लिए 25270 और 11वीं व 12वीं कक्षा के लिए 12065 रिक्त पदों पर नियुक्ति के लिए एसटीईटी की परीक्षा होनी है। 

बता दें कि कंप्यूटर साइंस विषय में प्रशिक्षण की जरूरत नहीं होने के कारण इसके लिए अभ्यर्थियों को 10 वर्ष की छूट नहीं मिलेगी। इस विषय के लिए अधिकतम उम्र सीमा में बस आठ वर्ष की छूट मिलेगी।

राज्य में पहली बार 2011 में हुई थी एसटीईटी

राज्य में पहली बार साल 2011 में उच्च और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति के लिए एसटीईटी की परीक्षा ली गई थी। दूसरी बार एसटीईटी की तैयारी चल रही है। लगभग 16196 एसटीईटी उत्तीर्ण हैं, जिनका नियोजन नहीं हो सका है।

दूसरी एसटीईटी के लिए 25 सितंबर तक बीएसईबी ने ऑनलाइन आवेदन भी लिया था। लगभग 45 हजार से अधिक आवेदन मिले थे। एसटीईटी उत्तीर्णता के लिए सामान्य श्रेणी में 50 और आरक्षित वर्ग में 45 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य होगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस