पटना, काजल। सरकारी बंगले को लेकर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही थी। इस बीच गुरुवार को तो बिहार सरकार ने बड़े बेटे तेजप्रताप यादव को उनका मनपसंद नया बंगला दे दिया है। लेकिन, छोटे बेटे तेजस्वी के बंगले को लेकर विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है। इस मामले में पटना हाईकोर्ट में आज भी फैसला नहीं हो सका। 

तेजप्रताप ने सीएम नीतीश कुमार से लगाई थी गुहार

तेजप्रताप यादव ने अपनी पत्नी एेश्वर्या राय को तलाक देने की अर्जी कोर्ट में दायर की है, जिसपर सुनवाई हुई और इस मामले में आठ जनवरी को एेश्वर्या राय अपना पक्ष रखेंगी। तेजप्रताप यादव ने जब से तलाक की अर्जी डाली है, तब से ही वो घर से दूर कभी वृंदावन कभी मथुरा सहित धार्मिक स्थलों का भ्रमण कर रहे हैं। पटना लौटने के बाद भी वो घर नहीं जा रहे थे और सरकार से गुहार लगाई थी कि उन्हें सरकारी बंगला दिया जाए। 

तेजप्रताप को 2 एम स्टैंड रोड में बड़ा-सा बंगला अलॉट हुआ है 

तेजप्रताप की गुहार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक पहुंची और उनकी पहल पर भवन निर्माण विभाग ने उन्हें राजधानी के 2 एम स्टैंड रोड स्थित एक बड़ा आवास अलॉट किया है। विधानसभा सचिवालय से इस आवास के लिए ग्रीन सिग्नल दिया गया है।

भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी ने कहा कि तेजप्रताप के पास सरकारी आवास नहीं था जिसकी वजह से वो इधर-उधर रह रहे थे। तेज प्रताप यादव ने खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात की और अपनी समस्या बताई। इसको मुख्यमंत्री ने गंभीरता से लेते हुए आदेश दिया कि अविलंब उन्हें बंगला आवंटित किया जाए। इसीलिए 2 एम स्टैंड रोड का भवन सेंट्रल पूल से विधानसभा पूल में डाला गया, जिसके तहत विधानसभा अध्यक्ष ने ये बंगला तेजप्रताप यादव को अलॉट किया है।

तेजस्वी के बंगले पर कोर्ट में फंसा है पेंच

बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद उपमुख्यमंत्री के पद से हट जाने के बाद आवंटित आवास को छोड़ने का निर्देश बिहार विधान सभा सचिवालय द्वारा तेजस्वी यादव को दिया गया था। लेकिन, तेजस्वी यादव ने अपने पूर्व के आवास को खाली नहीं किया है। 

सरकार ने तेजस्वी को नेता प्रतिपक्ष के रूप में 1, पोलो रोड का बंगला आवंटित किया, जिसमें फिलहाल उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी रहते हैं। लेकिन, पिछले डेढ़ साल से तेजस्वी यादव ने अपना बंगला खाली नहीं किया है और इसे बचाने के लिए वो पटना हाई कोर्ट तक चले गए हैं। 

प्रशासन ने की थी बंगला खाली कराने की कोशिश

इससे पहले तेजस्वी के बंगले को खाली कराने की पटना प्रशासन ने कोशिश की लेकिन तेजस्वी ने दो टूक कहा कि जब तक यह पूरा मामला हाईकोर्ट में चल रहा है, तब तक वे बंगला खाली नहीं करेंगे। गौरतलब है कि तेजस्वी ने हाईकोर्ट के सिंगल बेंच के फैसले को चुनौती देते हुए डबल बेंच में अर्जी लगायी है। 

गुरुवार को भी नहीं हो सका फैसला

गुरुवार को तेजस्वी यादव के सरकारी बंगला विवाद पर पटना हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई तीन जनवरी तक टाल दिया है। चीफ जस्टिस ए पी शाही की खंडपीठ ने तेजस्वी यादव की अपील पर सुनवाई की। हालांकि आज कोर्ट में एडवोकेट जेनरल मौजूद नहीं हो सके, कोर्ट ने अब मामले की सुनवाई तीन जनवरी तक टाल दिया है।

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप