पटना, जेएनएन। बिहार में अपराध चरम पर है। हत्या और लूट की घटनाएं लगातार हो रही हैं। कानून-व्यवस्था के मोर्चे पर विपक्ष लगातार राज्य सरकार पर हमलावर है। तमाम सख्ती के बाद भी अपराधी काबू से बाहर हो रहे हैं। ऐसे में बिहार पुलिस के प्रमुख भी गुस्से में आपा खो बैठे और बिगड़ी कानून-व्यवस्था को लेकर अपने ही अफसरों को निकम्मा और कामचोर बता दिया। 

हाजीपुर पहुंचे प्रदेश के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने बिहार पुलिस के अधिकारियों को निकम्मा और कामचोर बताते हुए कहा कि इनकी वजह से ही यहां का माहौल बिगड़ा हुआ है। डीजीपी से जब कानून-व्यवस्था को लेकर सवाल किया गया तो वह अधिकारियों पर ही बिफर पड़े।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के बिगड़े हालात और खराब हो रहे माहौल के लिए पुलिस महकमे के कुछ अधिकारियों का निकम्मापन और कामचोरी जिम्मेदार है। डीजीपी ने गुस्से में कहा कि महकमे के ऐसे नालायक अधिकारियों की पहचान की जा रही है।

उन्होंने कहा कि निकम्मे अधिकारियों को चिन्हित कर एक सप्ताह में कार्रवाई की जाएगी और इसके साथ ही अगले सात दिनों में बिहार पुलिस में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। पिछले कुछ दिनों में बिगड़े हालात को लेकर डीजीपी ने प्रदेश सरकार का बचाव भी किया। उन्होंने कहा कि बिहार ही नहीं, पूरे देश का माहौल खराब है। पूरे देश का माहौल देखा जाना चाहिए।

बिहार पुलिस के प्रमुख ने दावा किया है कि पूरे देश के हालात देखें तो तुलनात्मक रूप से प्रदेश में कानून-व्यवस्था बेहतर है, सूबे में कानून का राज है। अपने दावे के समर्थन में उन्होंने सरकार की ओर से चलाए जा रहे हरियाली कार्यक्रम का उल्लेख किया और कहा कि जहां देश के अन्य राज्यों की सरकारें कानून-व्यवस्था के मोर्चे पर परेशान हैं, वहीं प्रदेश सरकार यह कार्यक्रम चला रही है।

बिहार के डीजीपी ने दावा किया कि लूट आदि की घटनाओं को अधिकतर छोटे-छोटे गिरोह अंजाम दे रहे हैं।उन्होंने कहा कि आपराधिक वारदातों को अंजाम दे रहे अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा।उन्होंने दावा किया कि बहुत जल्द बिहार में अपराध का तांडव मचाने वाले अपराधियों को खींच कर बाहर निकालने और जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया जाएगा।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस