पटना, जागरण संवाददाता। बेखौफ अपराधियों ने 13 दिनों बाद राजधानी में एक बार फिर ज्वेलरी दुकान को निशना बना लिया। मंगलवार को दिनदहाड़े पत्रकारनगर के कैलाशपुरी में स्थित राजमणि ज्वेलर्स में डकैती हो गई। थाने से चंद कदम दूरी पर स्थित दुकान में दोपहर करीब तीन बजे छह की संख्या में हथियारबंद अपराधी कान की बाली खरीदने के बहाने घुसे थे। दुकान में घुसते दुकानदार राकेश कुमार वर्मा की पिटाई कर कनपटी पर पिस्टल तान दिया। बगल के कमरे में मौजूद उनकी पत्‍नी और सात साल के बेटे पर भी पिस्टल तान दिया। सभी को बंधक बना अपराधी करीब दस मिनट तक दुकान में लूटपाट करते रहे। करीब सौ ग्राम सोना सहित छह लाख की ज्वेलरी व तीस हजार नकद लूटने के बाद सीसी कैमरा का डीवीआर भी उखाड़ ले गए। 

थाने से दो सौ मीटर की दूरी पर वारदात को दिया अंजाम 

दिनदहाड़े डकैती की सूचना मिलते ही पुलिस महकमा में हड़कंप मच गया। पत्रकारनगर और कंकड़बाग थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। थोड़ी देर बाद ही सिटी एसपी पूर्वी जितेंद्र कुमार और एएसपी संदीप सिंह भी पहुंच गए। पुलिस दुकान में छानबीन में के बाद दुकानदार से अपराधियों को हुलिया पूछने में जुट गई। रंगदारी सेल और डायल 100 की टीम भी पहुंच गई। जो दुकान के आसपास लगे कैमरे का फुटेज खंगालने में जुटी रही। करीब एक घंटे बाद एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा भी घटनास्थल स्थल पर पहुंच छानबीन में जुट गए। एसएसपी ने बताया कि अपराधियों की संख्या कितनी थी, इसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। करीब सौ ग्राम सोना लूट की सूचना है। 

दो-दो की संख्या में दुकान में घुसे थे अपराधी 

पुलिस की मानें तो सात माह पूर्व ही वह दुकान खुली है। दुकानदार राकेश कुमार ने बताया कि वह मूल रूप से नालंदा के पावापुरी के रहने वाले हैं। अपने ही मकान के पहले तल्‍ले पर उनकी आभूषण की दुकान है। बगल में उनका परिवार रहता है। अन्य फ्लोर पर किरायेदार रहते हैं। पीडि़त की मानें तो दोपहर करीब तीन बज रहे थे। वे दुकान में बैठे थे। कोई स्टाफ और ग्राहक नहीं था। तभी दो युवक आए। दोनों बोले की कान की बाली दिखाओ। वह अभी लॉकर से कान की बाली निकालने के लिए कुर्सी से उठने वाले थे कि एक अपराधी ने कमर से पिस्टल निकाल उनकी कनपटी पर सटा दिया। वे पिटाई करने लगे। बोला, कि जो भी सोना और कैश रखे हो सब बाहर निकालो। तभी चार और अपराधी हाथ में पिस्टल लेकर दुकान में घुस गए। उन्हें पता चला कि बगल के कमरे में कोई है। फिर तीन अपराधी उस कमरे में गए, जहां  पत्‍नी रजनी व सात वर्षीय बेटा अभिराज थे, उन्‍हें भी बंधक बना लिया। इसके बाद डकैती की। 

कैमरा देखने के बाद पूछा, कहा छिपा रखा है डीवीआर 

लूटपाट के दौरान एक अपराधी की नजर कैमरे पर पड़ी। अपराधी गोली मारने की धमकी देते हुए पूछने लगा कि कैमरे का डीवीआर कहां है? वह डर से बगल के कमरे की तरफ इशारा किये। छह में एक पिस्टल ताने था, एक कैमरे का डीवीआर उखाड़ने लगा। तबकि चार में एक दुकान गेट पर खड़ा होकर नजर रख रहा था। वहीं तीन लूटपाट कर सभी जेवर को बैग में भरने लगे। करीब दस मिनट बाद सभी एक साथ फरार हो गए। 

रेन कोट में एक था एक अपराधी, अन्य ने लगा रखा था मास्क 

पीड़‍ि‍त  की मानें तो शुरू में जो दो अपराधी दुकान में घुसे थे उनमें एक मास्क लगाए हुए था, जबकि दूसरे ने रेनकोट पहन रखा था। अन्य चारों गमछे से चेहरे को ढंके हुए थे। दो के हाथ में हेलमेट भी था। उनकी उम्र 20 से 25 साल के बीच थी।  घटना की भनक पड़ोस में रहने वालों को भी नहीं लगी। डकैतों के जाने के बाद जब दुकानदार शोर मचाने लगे तब लोगों को पता चला कि दुकान में डकैती हुई है। 

Edited By: Vyas Chandra