पटना, जागरण संवाददाता । बिहार में कोविड पॉजिटिव होने का हर दिन आंकड़ा बढ़ता रहा है। वहीं आरटीपीसीआर कोरोना जांच रिपोर्ट लेने के लिए लोगों को काफी समय लग रहा है। स्थिति यह हो रही है कि लोग सर्दी, खांसी, बुखार आदि परेशानी होने पर जांच कराने के लिए शहरी स्वास्थ्य केंद्र या अन्य अस्पतालों में पहुंचते है। वहां एंटीजन जांच रिपोर्ट तो तुरंत मिल जाते है, लेकिन, आरटीपीसीआर रिपोर्ट कई दिनों के बाद मिल रहे है। कई ऐसे लोग है जिन्हें आठ दिनों के बाद जांच रिपोर्ट दी जा रही है कि आप पॉजिटिव है। खुद को आइसोलेट करें। तब तक उनकी सर्दी, खांसी, बुखार आदि लगभग ठीक हो गए होते है। कई बार यह भी देखने को मिला है कि एंटीजन किट में जांच रिपोर्ट निगेटिव होते है, जबकि आरटीपीसीआर में पॉजिटिव आते है।

कहते है लोग

कंकड़बाग के उज्‍जवल कुमार ने बताया कि पीएमसीएच में बीते शुक्रवार को सैंपल दिया था। तब बताया गया था कि तीन दिनों में रिपोर्ट आ जाएगा। आज आठ दिन गए है। अब भी स्मेल, स्वाद नहीं आ रहे है। बुखार आ रहा है। रिपोर्ट आने के बिना खुद को आइसोलेट कर लिया हूं।

  शास्त्रीनगर की सुशीला ने बताया कि शास्त्रीनगर शहरी स्वास्थ्य केंद्र पर बीते शनिवार को कोरोना जांच कराया था। एंटीजन में संक्रमण संदिग्ध बताया गया था। आरटीपीसीआर जांच भी लिया गया था। बताया गया था कि रिपोर्ट तीन-चार दिन में आ जाएंगे। लेकिन, रिपोर्ट अब तक नहीं आएं है।

पटेल नगर के प्रभात का कहना है कि 15 अप्रैल को होटल पाटलिपुत्र अशोक में कोरोना जांच कराया था। लेकिन अब तक रिपोर्ट नहीं आया है। आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट आने के इंताजार तक घर में खुद को आइसोलेट कर रखा हूं।

कंकड़बाग की सुमन ने बताया कि 11 अप्रैल को कोरोना जांच कराया था। एंटीजन किट में नेगेटिव आया था। आरटीपीसीआर जांच सैंपल कलेक्ट कर रख लिया गया था। 19 अप्रैल को एक एसएमएस आया कि आप पॉजिटिव है। आप खुद को सभी से अलग कर लें, शारीरिक दूरी व मास्क का उपयोग करें।

कहते है अधिकारी

वहीं सिविल सर्जन, डॉ. विभा रानी सिंह का कहना है कि आरटीपीसीआर सैंपल आरएमआरआइ स्थित लैब जाता है। वहां के कर्मचारी संक्रमित हो गए थे। उसमें पहले जांच रिपोर्ट आने में देरी हो रही थी। लेकिन अब सब धीरे-धीरे ठीक हो रहा है। अब तीन दिनों में रिपोर्ट आ जाएंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप