मसौढ़ी (पटना), संवाद सहयोगी। Bihar CoronaVirus News: बिहार की राजधानी पटना से सटे गांव में एक महिला के साथ गजब हो गया। यहां 63 साल की एक महिला ने चंद मिनट के अंतराल पर दो अलग-अलग कंपनियों की कोविड वैक्‍सीन लगवा ली। एक ही साथ कोवैक्‍सीन और कोविशील्‍ड दोनों वैक्‍सीन के डोज लेने वाली यह महिला पुनपुन प्रखंड के अवधपुर की रहने वाली है। यह पूरा वाकया इसी प्रखंड की लखना पूर्वी पंचायत के बेल्दारीचक स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय वैक्सीनेशन सेंटर पर पिछले बुधवार को हुआ था। डॉक्‍टर अभी तक महिला की सेहत को लेकर परेशान हैं।

बारी-बारी से दो कतारों में खड़ी हो गई महिला

मिली जानकारी के अनुसार पुनपुन के अवधपुर निवासी रवींद्र महतो की 63 वर्षीया पत्नी सुनीला देवी भी वैक्सीन लेने पहुंची थी। इस वैक्‍सीनेशन सेंटर पर एक ही कमरे में 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग और 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लोगों को अलग-अलग टेबल पर वैक्‍सीन दी जा रही थी। दोनों ही आयु वर्ग के लोगों की कतार हॉल में अलग-अलग लगी थी। इस महिला ने पहले एक कतार में और बाद में दूसरी कतार में लगकर दोनों ही वैक्‍सीन की डोज लगवा ली।

स्‍वजनों ने टीकाकरण केंद्र पर पहुंच कर किया हंगामा

उसे कुछ अंतराल पर ही वैक्सीन के दो डोज कोविशील्ड व कोवैक्सीन की दे दी गई। कुछ देर के बाद जब इसकी जानकारी उसके स्वजनों को हुई तो उन्‍होंने टीकाकरण केंद्र पर पहुंच कर हंगामा शुरू कर दिया। पूरे वाकये की जानकारी वहां मौजूद स्वास्थकर्मियों को हुई तो उनके भी होश उड़ गए। बाद में मौके पर मुखिया पति द्वारिक पासवान समेत अन्य लोग पहुंचे और लोगों को समझा-बुझा कर मामले को शांत कराया।

महिला के स्‍वास्‍थ्‍य की लगातार की जा रही निगरानी

तुरंत पूरे वाकये की जानकारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. संजय कुमार को दी गई। इसके बाद उनके निर्देश पर एक चिकित्सकीय टीम ने मौके पर पहुंचकर महिला का स्वास्थ परीक्षण किया। चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि महिला का स्वास्थ्य अब तक ठीक ठाक है। उसकी लगातार निगरानी की जा रही है।

इस वजह से समय रहते पकड़ में नहीं आया मामला

प्रभारी चिकित्‍सा पदाधिकारी ने बताया कि सेंटर पर मौजूद दो एएनएम चंचला कुमारी व सुनीता कुमारी से इस संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की गई है। उन्‍होंने बताया कि आधार कार्ड की जांच कमरे से बाहर ही करने के बाद अंदर भेजा जा रहा था। महिला ने कमरे के अंदर जाने के बाद ही अपनी कतार बदल दो वैक्‍सीन ले ली। इसकी वजह से यह मामला समय रहते पकड़ में नहीं आ सका। पहली वैक्‍सीन लेने के बाद वह कमरे से बाहर निकली नहीं और अंदर ही दूसरी वैक्‍सीन भी ले ली।