राज्य ब्यूरो, पटना। जदयू प्रदेश कार्यालय में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को सुबह 11.30 बजे से शाम तीन बजे तक पार्टी के कार्यकर्ताओं व पूर्व विधायकों से मुलाकात की। मुलाकातियों ने अपने को कहीं न कहीं समायोजित करने का निवेदन भी खूब किया। एक पूर्व विधायक ने कहा- सर एकोमडेट कर दीजिए। बहुत दिन से बाहर हैैं। इशारे-इशारे में विधान परिषद की सीट पर भी बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा- काम करते रहिए। बायोडाटा लिया और उस पर नजर मारने के बाद उसे पास बैठे शिक्षा मंत्री विजय चौधरी को दे दिया।

हाल के दिनों में यह दूसरा मौका है जब मुख्यमंत्री ने पार्टी के प्रदेश कार्यालय में जदयू कार्यकर्ताओं व पार्टी के पुराने नेताओं से भेंट की। इस क्रम में यह जानकारी दी गयी कि जिन लोगों ने भी मुख्यमंत्री से मुलाकात को आवेदन दिया था उन सभी लोगों को मुख्यमंत्री ने इकट्ठे पार्टी दफ्तर में मिलने के लिए बुला लिया। मुख्यमंत्री से मुलाकात करने वालों में जदयू सांसद कविता सिंह, पूर्व सांसद मीना सिंह व राज्यसभा की पूर्व सदस्य कहकशां परवीन भी शामिल थीं।

कुछ ने अपनी पसंद के निगम की भी बात कही

मुख्यमंत्री से मिलने आए कई कार्यकर्ताओं ने अपने को बोर्ड-निगम के खाली पदों पर एडजस्ट करने की बात कही। काफी दिनों से बोर्ड व निगम के पुनर्गठन का मामला चल रहा है। कुछ लोगों ने अपने पसंद के निगम की भी बात कही। मुख्यमंत्री ने जब पिछली बार जदयू प्रदेश कार्यालय में पार्टी के लोगों से बात की थी तब भी लोगों ने इस तरह का निवेदन किया था। मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे कई लोगों ने खेत की सिंचाई के प्रबंध पर अपनी बात कही। मौके पर मौजूद जल संसाधन मंत्री संजय झा ने भी इस मसले को देखा। कुछ लोगों ने अपने इलाके में सड़क चौड़ीकरण कराने की बात कही। कई निवेदन इस तरह के भी थे कि कार्यकर्ताओंं ने अपने संगठन में एडजस्ट करने की बात कही। मौके पर मौजूद जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह तथा प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने भी इन विषयों पर बात करने वालों के साथ चर्चा की। भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी भी इस मौके पर मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने मिलने आए लोगों को यह भी समझाया कि सरकार के स्तर पर जो काम हो रहे हैैं उसके बारे में लोगों को पूरी तरह से बताएं। लोगों के बीच अपने को सक्रिय रखें।

Edited By: Shubh Narayan Pathak