पटना, आनलाइन डेस्‍क। विधान परिषद में भाजपा के उप नेता नवल किशोर यादव ने जदयू संसदीय दल के नेता उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) पर पलटवार किया है। उन्‍होंने कहा कि वे अलग हटकर नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को झटका नहीं दे सके इसलिए अब सटकर वह बदला लेना चाहते हैं। भाजपा विधान पार्षद ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा हमसे अलग इसलिए हुए थे कि वे नीतीश कुमार के साथ नहीं रहना चाहते थे। उन्‍होंने यह भी कहा कि भाजपा राम की पूजा करती है, यहां कोई विभीषण नहीं है। उन्‍होंने कहा कि भाजपा नीतीश जी के साथ थी, है और आगे भी मजबूती से रहेगी। 

जदयू के उम्‍मीदवारों को 16 सीटों पर पहुंचाई हानि 

मालूम हो कि उपेंद्र कुशवाहा ने एक बयान में कहा कि जदयू के उम्‍मीदवारों को हराने में गठबंधन के दल ही शामिल थे। इसपर नवल किशोर यादव ने गहरी नाराजगी जताई है। उन्‍होंने कहा कि जिस समय कुशवाहा हमारी पार्टी के साथ थे तब ही नीतीश कुमार जी वापसी एनडीए में हुई थी। इसका उपेंद्र कुशवाहा ने कड़ा विरोध किया। इसी वजह से वे हमसे अलग भी हुए कि जहां नीतीश रहेंगे वहां वे नहीं रहेंगे।  नवल किशोर यादव ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा ने जदयू को 16 सीटों पर हानि पहुंचाई। उनका एकमात्र लक्ष्‍य था नीतीश कुमार को गद्दी से उतारना। तरारी, मोहनिया, अर‍वल, घोसी, नोखा, काराकाट, दिनारा, अतरी, भभुआ, केसरिया, औरंगाबाद, जहानाबाद समेत 16 जगहों पर इनकी वजह से जदयू के उम्‍मीदवार हारे।  कल तक वे नीतीश जी काे हटाने के लिए कफन बांधे घूम रहे थे, आज उनके सुर बदल गए हैं। वे हितैषी बन गए हैं। वे हट के झटका नहीं दे सके तो भाजपा का नाम लेकर सटकर झटका देना चाहते हैं। 

तो फिर चिराग के चाचा को मंत्री क्‍यों बनाते 

विधान पार्षद ने कहा कि भाजपा हमेशा गठबंधन दल का पालन करती है। हम जिसके साथ रहते हैं, पूरी मजबूती रहते हैं। उपेंद्र कुशवाहा भ्रम नहीं फैलाएं। भाजपा कैसी पार्टी है यह सभी जानते हैं। उन्‍होंने विधानसभा चुनाव में जदयू उम्‍मीदवार को हराने के लिए चिराग से मिलीभगत के आरोपों पर भी पलटवार किया। कहा कि राघोपुर में किसकी वजह से भाजपा के उम्‍मीदवार हारे, यह सभी जानते हैं। ऐसा रहता तो चिराग पासवान को केंद्र में मंत्री बनाया जाता, उनके चाचा को नहीं। इससे स्‍पष्‍ट है कि हमारा कोई अंदरुनी साठगांठ नहीं है। 

 

Edited By: Vyas Chandra