पटना, आनलाइन डेस्क। बिहार में भले ही कड़ाके की ठंड पड़ रही हो लेकिन राज्य का सियासी पारा चढ़ा हुआ है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के दो सहयोगी दल बीजेपी और जदयू के बीच तनातनी साफ तौर पर देखी जा रही है। दोनों पार्टी के नेताओं द्वारा एक दूसरे पर सियासी वार का दौर जारी है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल (Sanjay Jaiswal) पर जदयू की टिप्पणी और प्रदेश अध्यक्ष के पलटवार के बाद दोनों तरफ से बयानबाजी अब तेज हो गई है। इस बीच अब बीजेपी के एमएलसी नवल किशोर यादव (Nawal Kishore Yadav) ने जनता दल यूनाइटेड पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि अलुआ झलुआ बोलने वालों का हमलोग नोटिस नहीं लेते हैं। 

'छुटभैया नेताओं की बात पर नहीं देते ध्यान'

दरअसल जदयू विधायक संजीव कुमार ने बीजेपी पर हमला करते हए कहा था कि गठबंधन में रहकर अनाप शनाप कहना ठीक नहीं है। इसके बाद मंगलवार को बीजेपी नेता नवल किशोर यादव ने पलटवार किया है। उनहोंने कहा है कि अलुआ झलुआ बोलने वालों की बातों का नोटिस नहीं लेते हैं। छुटभैया नेताओं की बात पर ध्यान नहीं देते हैं। उन्होंने कहा कि जिस दिन राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की नींव रखी गई उस दिन बहुत से लोगों का जन्म हुआ। इसलिए छोटी मुंह बड़ी बात नहीं करनी चाहिए। छोटे मोटे लोग की बातों का नोटिस नहीं लेते।उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि सावन में जन्म लिए और भादों में बाढ़ गया और कहने लगे कि इतना ज्यादा पानी देखे ही नहीं।

उपेन्द्र कुशवाहा पर भी कसा तंज

नवल किशोर ने शराबबंदी कानून में संशोधन की बात को लेकर कहा कि कानून सदन में पास होता है। लेकिन फैक्ट जब एक्ट से दूर चला जाता है तो समस्या होती है। जदयू संसदीय दल के नेता उपेन्द्र कुशवाहा और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के बीच चल रही तनातनी पर उन्होंने कहा कि संजय जायसवाल बड़े पार्टी के लीडर हैं। उन्होंने उपेन्द्र कुशवाहा पर तंज कसते हुए कहा कि हमारी पार्टी के नेता दरवाजे दरवाजे भटकते नहीं। जायसवान हमारी पार्टी के नेता हैं इसलिए वे क्या कहते हैं वो हमलोग अच्छी तरह समझते हैं।

'बिहार में कैसे बन रही जहरीली शराब'

नालंदा में जहरीली शराब पीने से मौत पर उन्होंने कहा कि मरने वालों के परिवार के प्रति मेरी संवेदना है। बीजेपी नेता ने कहा कि जो छोटो तपके के लोग हैं, जो फिजिकल काम करते हैं वे छोटी कंपनी की शराब पी लेते हैं और जो बड़े लोग हैं वे बड़ी कंपनी का शराब पीते हैं। ऐसे लोगों पर नजर रखने की जरूरत है। सवाल ये है आखिर ऐसी जहरीली शराब कहां बन रही है।

Edited By: Rahul Kumar