आरा, जेएनएन।  Barhara Election 2020 : भोजपुर जिले के बड़हरा विधानसभा सीट पर राष्ट्रीय जनता दल का कब्जा है। पिछले दो चुनाव में राजद को ही जीत मिल रही है। यह क्षेत्र बाढ़ को लेकर अक्सर चर्चा में रहा है। इस विधानसभा क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी आजतक चुनाव नहीं जीत पाई है। पिछले विधानसभा चुनाव में यहां राजद की ओर से सरोज यादव को कुल 65 हजार के करीब वोट मिले थे जबकि भारतीय जनता पार्टी की ओर से आशा देवी को 51 हजार वोट मिल पाए थे। पहले चरण के चुनाव में यानी 28 अक्टूबर को यहां के प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हो गया।

मतदान के दिन राजद प्रत्‍याशी की गाड़ी पर पथराव

क्षेत्र के निवर्तमान विधायक और राजद प्रत्‍याशी सरोज यादव के निजी वाहन पर छिन्नेगांव स्थित 115 नंबर बूथ पर कुछ असामाजिक तत्वों ने पथराव कर दिया। इससे उसकी वाहन का पीछे का शीशा चकनाचूर हो गया। यह घटना तब हुई जब प्रत्‍याशी बूथों का भ्रमण कर मतदान का जायजा ले रहे थे। बताया जा रहा है कि ग्रामीण विधायक की किसी टिप्‍पणी से नाराज हो गए थे।

ये हैं मुख्य उम्मीदवार:

राघवेंद्र प्रताप सिंह – भारतीय जनता पार्टी 

सरोज यादव – राष्ट्रीय जनता दल 

सियामती राय – रालोसपा 

रघुपति यादव – जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक)

टिकट नहीं मिलने पर भाजपा की पूर्व विधायक आशा देवी बागी होकर निर्दलीय लड़ रही हैं। 

बड़हरा विधानसभा सीट एक नजर में:

1967 के चुनाव में कांग्रेस की ओर से अंबिका शरण सिंह चुनाव जीते जो दो बार इस सीट से विधायक बने, उसके बाद उनके बेटे 1985 में यहां पर चुनाव जीते और 2000 तक लगातार चार बार इस सीट पर कब्जा जमाए रहे। 2005 में यहां से जदयू को जीत मिली, लेकिन पिछले दो चुनाव में राजद का ही कब्जा रहा है। पिछले विधानसभा चुनाव में यहां पर राजद और भाजपा के बीच मुकाबला था। आशा देवी इससे पहले जदयू की ओर से इस सीट पर चुनाव लड़ चुकी हैं, लेकिन पिछले चुनाव में वो बीजेपी में चली गईं। पिछले विधानसभा चुनाव में यहां 51 फीसदी मतदान हो पाया था। अभी राजद से सरोज यादव यहां विधायक हैं।

अपने ही सरकार के खिलाफ धरने पर बैठ गए थे सरोज यादव:

2015 में राजद और जदयू की सरकार बनने के कुछ ही दिन बाद सरोज यादव ने आरोप लगाया था कि अफसर भ्रष्ट हैं और काम नहीं कर रहे हैं। इसके अलावा एक बार विधायक के पास दस लाख रुपये की रंगदारी मांगने का फोन आया था। इस तरह से वो लगातार सुर्खियों में बने रहते हैं। फिलहाल ही एक अनुसूचित जाति के लड़के को मोबाइल फ़ोन से धमकी देने और उसे उठवाने का आरोप विधायक पर लगा है। इस मामले में बड़हरा थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई है।

क्षेत्र के मुख्य मुद्दे:

बड़हरा विधानसभा क्षेत्र का एक छोर बाढ़ और आर्सेनिक युक्त पानी की समस्या से लगातार जूझ रहा है। वही गीधा इंडिस्ट्रयल एरिया में भी सुविधओं का अभाव है। इस क्षेत्र में सड़क निर्माण और गांवों में बिजली पहुंचाने के साथ आरा-छपरा पुल के निर्माण शुरू होने और खवासपुर से मौजमपुर के बीच पीपा पुल के निर्माण की कवायद शुरू होने जैसे बड़े कार्य हुए हैं। हर साल बाढ़ में किसानों की लाखों की फसल बर्बाद होती है। शैक्षणिक संस्थानों का भी घोर अभाव है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस