पटना, राज्य ब्यूरो।  कोरोना संकट के कारण लगे लॉकडाउन में ढील पड़ते ही बिहार में चुनावी सुगबुगाहट तेज हो गई है। वर्चुअल मीटिंग के बीच पार्टी के आलाकमानों से पार्टी पदाधिकारियों व नेताओं को निर्देश भी मिलने लगे हैं। इसी कड़ी में सोमवार को लोजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान ने पार्टी पदाधिकारियों को साफ-साफ समझाया कि चुनाव की तारीख को लेकर संशय में नहीं रहें, अभी से ही तैयारी करें। उन्‍होंने बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट अभियान को तेज करने के लिए कहा।

दरअसल, लॉकडाउन के बाद सोमवार को लोजपा का कार्यालय खुला। पटना स्थित प्रदेश कार्यालय में सेफ डिस्टेंसिंंग के साथ गतिविधि शुरू हो गयी। हिदायत दी गयी है कि जो लोग बगैर मास्क के आएंगे, उन्हें पार्टी दफ्तर में प्रवेश नहीं मिलेगा। इस दौरान लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने सोमवार को अपने दल के सभी उपाध्यक्षों, प्रधान महासचिवों व प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्षों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग से बात की।  

चिराग ने पार्टी पदाधिकारियों को यह समझाया कि जनता की कोई भी परेशानी हो, उसे सरकार की नोटिस में जरूर लाएं। यह न सोचें कि हम सत्ताधारी दल के घटक हैैं। इस क्रम में उन्होंने केंद्रीय विद्यालय की फीस माफी के मसले का भी जिक्र किया। मालूम हो कि चिराग पासवान ने झाझा केंद्रीय विद्यालय का मसला उठाया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के अन्य नेता अपने-अपने इलाके में इसे देखें।

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अशरफ अंसारी ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जल्द ही सभी पार्टी पदाधिकारियों के साथ जिलावार वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करेंगे। मीडिया प्रभारी कृष्णा सिंह कल्लू ने बताया कि सोमवार को हुई बैठक में लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रिंस राज, युवा लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंदन सिंह, लोजपा महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष वीणा देवी, लोजपा प्रदेश संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष राजू तिवारी, विधान पार्षद नूतन सिंह, पूर्व विधायक सुनील पांडेय, विनोद सिंह व पार्टी के प्रधान महासचिव शहनवाज अहमद कैफी भी शामिल हुए।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस