पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार के नियोजित शिक्षकों (Contract Teachers) के लिए यह बड़ी खबर है। वे अपने वेतन व सेवा शर्तों से संबंधित मांगों को लेकर हड़ताल (Strike) पर हैं। इस हड़ताल को लेकर सरकार के कड़े रूख के बीच मुख्‍यमंत्री (Chief Minister) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पहले ही इशारा कर चुके हैं कि सरकार उनका वेतन बढ़ाएगी। अब उपमुख्‍यमंत्री (Deputy Chief Minister) सुशील मोदी (Sushil Modi) ने भी यह बात दुहराई है।

समान काम के बदले समान वेतनमान नहीं

उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी ने मंगलवार को विधान परिषद (Bihar Legislative Council) में तृतीय अनुपूरक बजट पर सरकार के जवाब पर चर्चा के दौरान सदन को यह जानकारी दी कि सरकार नियोजित शिक्षकों का वेतन शीघ्र बढ़ाएगी। नियोजित शिक्षकों के प्रति सरकार संवेदनशील है, लेकिन समान काम के बदले समान वेतनमान (Equal Pay for Equal Work) नहीं देगी।

8868 करोड़ का तृतीय अनुपूरक बजट पारित

मंगलवार को 8868 करोड़ रुपये का तृतीय अनुपूरक बजट विधान परिषद से पारित हो गया। बकौल सुशील मोदी, मुख्यमंत्री ने कह दिया है कि शिक्षकों का वेतन बढ़ेगा। उन्होंने तृतीय अनुपूरक बजट से विभिन्न योजना मद में खर्च की जाने वाली राशि के बारे में विस्तार से योजनावार जानकारी दी।

सदन में पेश किया बिहार विनियोग विधेयक

इससे पहले उप मुख्यमंत्री ने बिहार विनियोग विधेयक, 2020 सदन में पेश किया और इसके जरिए राशि खर्च की अनुमति ली। इसमें सबसे अधिक प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रमीण के तहत 2248 करोड़ रुपये गरीबों के आवास निर्माण पर खर्च होंगे। इसी प्रकार 1000 करोड़ गली-नाली पक्कीकरण योजना, 402 करोड़ नियोजित शिक्षकों के वेतन, कृषि के लिए 144 करोड़, 251 करोड़ सहकारिता आदि के लिए दिए गए हैं।

शिक्षकों के वेतन की घाेषणा बड़ी पहल

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार तथा उनके बाद अब उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी की नियोजित शिक्षकों के वेतन को लेकर घाेषणा को बड़ी पहल बताया जा रहा है। अगर यी लागू हुआ तो चुनावी साल में सरकार का शिक्षकों को बड़ा तोहफा होगा।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस