बक्सर [जेएनएन]। हैदराबाद में एक लेडी डॉक्‍टर की दुष्‍कर्म के बाद हत्‍या कर शव को जला देने की बर्बर घटना ने देश को हिला दिया है। इसी बीच बिहार में भी ऐसी ही एक घटना में एक अज्ञात युवती के साथ दुष्‍कर्म के बाद गोली मारकर उसकी हत्‍या कर दी गई, फिर शव को जला दिया गया। इस घटना पर बिहार रो पड़ा, लेकिन इस संवेदनशील मामले में पुलिस लापरवाही के कारण अहम सबूत नष्‍ट हो गए बताए जा रहे हैं। दुष्‍कर्म को लेकर डीआइजी व पोस्‍टमार्टम करने वाले डॉक्‍टर के बयान भी विरोधाभाषी हैं।

मंगलवार को बक्‍सर के इटाढ़ी थाना क्षेत्र के कुकुढ़ा गांव के बाहर खेत से एक युवती की अधजली लाश बरामद की गई थी। इस संवेदनशील मामले में पुलिस ने घटनास्थल की घेराबंदी नहीं की, न हीं वहां सुरक्षा का इंतजाम किया। इस कारण घटनास्‍थल पर अहम सुबूत नष्ट हो गए हैं। इस बाबत सवाल पर डीआइजी राकेश राठी ने इसे आम जनता की गलती बताकर पल्ला झाड़ लिया। उन्‍होंने हत्‍या के पहले दुष्‍कर्म से भी इनकार किया।

तीन दिनों बाद भी पहेली बनी वारदात की गुत्‍थी

बिहार के बक्सर जिले में दुष्कर्म के बाद युवती की गोली मारकर हत्‍या के बाद शव को जलाने की गुत्थी पुलिस के लिए तीन दिनों बाद भी पहेली बनी हुई है। युवती की शिनाख्त नहीं हो पाने के कारण पुलिस की जांच आगे नहीं बढ़ पा रही है। हालांकि, पटना से आई फोरेंसिक टीम सुबूतों की तलाश में लगी है। टीम ने शव से दांत और नाखून के नमूने लिए हैं।

रात 12 बजे मारी गोली, फिर वहीं शव को जला डाला

जांच में यह बात स्पष्ट हो चुकी है कि युवती को आग के हवाले करने से पहले गोली मारी गई। ग्रामीणों के अनुसार युवती को सोमवार व मंगलवार के बीच की रात 12 बजे के करीब गोली मारी गई है। उन लोगों ने गोली की आवाज सुनी थी। बाहर निकले तो देखा कि आग जल रही है, लगा कि शायद कोई अलाव जला रहा है। रात के कारण वहां जाने की कोई हिम्मत नहीं जुटा सका।

फोरेंसिक ओडोंटोलोजी से हो सकती शव की पहचान

इस मामले में पुलिस वैज्ञानिक अनुसंधान का सहारा ले रही है। फोरेंसिक ओडोंटोलोजी के माध्यम से शव की पहचान करने की कोशिश की जाएगी। घटनास्थल पर पहुंची टीम के एक सदस्य ने बताया कि इसके लिए शव से दांतों के नमूने लेकर सुरक्षित रख लिए गए हैं। फोरेंसिक ओडोंटोलोजी तकनीक से सड़-गल चुके व जले हुए शवों की पहचान दांतों से की जा सकती है। बशर्ते जिसका शव मिला है, उसके दांतों के डेंचर (कृत्रिम दांतों की पंक्ति) का साइज किसी डेंटिस्ट के पास मौजूद हो।

विवाहिता थी युवती, पर्स से बिछिया बरामद

पुलिस अधीक्षक उपेंद्रनाथ वर्मा बताया कि मृतक युवती के पास मिले पर्स एक पैकेट में बिछिया बरामद की गई है। ब्याहता ही बिछिया पहनती हैं। यह सुबूत इशारा करता है कि शायद वह किसी सहेली की शादी में जाने के लिए तैयार हुई होगी और गिफ्ट देने के लिए बिछिया रखी होगी।

टावर लोकेशन में मोबाइल नंबरों पर नजर

एसपी के अनुसार यह ऑनर किलिंग का मामला भी हो सकता है। अपराधियों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने घटनास्थल और उसके आसपास के टावर लोकेशन में मोबाइल नंबरों को सर्विलांस पर ले रखा है।

पुलिस लापरवाही से नष्‍ट हुए अहम सबूत

सबसे बड़ी बात यह कि इस मामले में पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है। घटनास्थल की घेराबंदी न होने से सुबूत नष्ट हो गए हैं। इस संबंध में पूछे जाने पर डीआइजी राकेश राठी ने इसे आम जनता की गलती बताते हुए पल्ला झाड़ लिया। उन्होंने कहा कि वहां रातभर चौकीदार को तैनात किया गया था। इसके अलावा पुलिस पदाधिकारी भी थे। फिर भी लोग सुबूतों को नष्ट करने पर तुले हैं।

डीआइजी व डॉक्‍टर के परस्‍पर विरोधी बयान

इस मामले में पुलिस तथा डॉक्‍टर के बयान बिल्कुल विरोधाभासी हैं। डीआइजी राकेश राठी दुष्‍कर्म की घटना से मानने से इनकार कर रहे हें। उधर, शव का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्‍टर बीएन चौबे ने बताया की प्रारंभिक तौर पर जो साक्ष्य मिले हैं, उनसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि युवती के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया। उन्होंने बताया कि शव के अवशेषों को जांच के लिए पटना भेजा गया है। जिसकी रिपोर्ट आने पर यह पूरी प्रमाणित हो जाएगा कि हत्या से पूर्व दुष्कर्म किया गया है या नहीं।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस