पटना, जेएनएन। देशद्रोह के आरोपी जेएनयू (JNU) के छात्र शरजील इमाम (Sharjeel Imam) को दिल्ली पुलिस ने बिहार पुलिस की मदद से जहानाबाद जिले के काको थानाक्षेत्र से 28 जनवरी को गिरफ्तार किया और रातभर पटना के जेल में रखने के बाद बुधवार की सुबह फ्लाइट से लेकर दिल्ली चली गई। शरजील की गिरफ्तारी को लेकर अब चौंकाने वाली बात सामने आ रही है। उसकी गिरफ्तारी में उसकी गर्लफ्रेंड की बड़ी भूमिका रही है।

गर्लफ्रेंड की वजह से शरजील हुआ गिरफ्तार

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, शरजील इमाम की गर्लफ्रेंड पर दबाब बनाकर उसे गिरफ्तार करने में सफलता मिली।इससे पहले लगातार चार दिनों तक शरजील की तलाश में देश के अनेक हिस्‍सों में छापेमारी की गई थी, लेकिन उसका लोकेशन बिहार में मिल रहा था। 

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, शरजील की गिरफ्तारी के दिन दिल्ली क्राइम ब्रांच और बिहार पुलिस सुबह 4 बजे शरजील के भाई को हिरासत में लिया था। भाई से पूछताछ के दौरान पुलिस को शरजील के दोस्त इमरान का पता चला था। जब इमरान को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो शरजील की प्रेमिका के बारे में जानकारी मिली।

इसके बाद पुलिस ने दबिश बनाई और शरजील की प्रेमिका पर दबाव बनाकर कहा कि वह शरजील को मलिक टोला स्थित इमामबाड़े में मिलने के लिये बुलाए। जैसे ही शरजील इमामबाड़े में अपनी प्रेमिका से मिलने पहुंचा, वैसे ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। 

कट्टर है शरजील,  कहा-मुझे भाषण देने का पछतावा नहीं

पुलिस ने पूछताछ को लेकर दूसरी चौंकाने वाली बात भी बतायी है, जिसमें शरजील ने कहा है कि भाषण देने का उसे कोई पछतावा नहीं है और वह अपना विरोध जारी रखेगा। दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने पूछताछ के बाद खुलासा किया है कि वह घोर कट्टरपंथी है और उसका मानना है कि भारत को एक इस्लामिक राज्य होना चाहिए। पूछताछ में उसने यह भी माना है कि उसके अलग-अलग भाषणों के वीडियो के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है।

बता दें कि शरजील द्वारा CAA और NRC के विरोध में दिए गए भाषण का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें उन्‍हें असम को भारत से अलग करने की बात करते हुए सुना जा सकता है। उनके खिलाफ देशद्रोह समेत अनेक धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।

ट्विटर पर लिखा था-28 जनवरी को तीन बजे आत्मसमर्पण करूंगा

शरजील इमाम ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा था कि वह 28 जनवरी को तीन बजे आत्मसमर्पण करने वाला है। निर्धारित समय पर वह दिल्ली पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण करेगा। उसने यह भी लिखा था कि 22 जनवरी को वह पैतृक गांव काको आया था। घर से ही आसनसोल के धरने में शामिल होने गया और वापसी के दौरान चाकंद बारा के धरने में भाषण दिया। ये जानकारी शरजील के साथ रहकर दिल्ली में पढ़ाई करने वाले उसके भाई मुजम्मिल ने दी। 

मां ने साधी चुप्पी, भाई-चाचा ने कहा-भाषण को तोड़-मरोड़कर पेश किया

शरजील की मां आस्फा अरशद कुछ बोलने की स्थिति में नहीं थी लेकिन चाचा अरशद इमाम और छोटा भाई मुजम्मिल इमाम मीडिया के सामने आए। कहा कि उसके भाषण को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया। उसके भाषण का वीडियो 40 मिनट का है लेकिन उसे काटकर मात्र 40 सेकेंड का दिखाया गया है।

चाचा के साथ भाई ने कहा कि गिरफ्तारी के पहले तक हमें डराया धमकाया जा रहा था। हालांकि डराने धमकाने का काम जिला पुलिस के लोग नहीं कर रहे थे बल्कि दिल्ली पुलिस आतंकवादी के परिवार जैसा व्यवहार कर रही थी। उनलोगों ने कहा कि अपने भाषण के दौरान उसने सिर्फ असम से आवागमन भंग करने की बात कही थी। उनलोगों ने यह भी कहा कि हमलोगों ने कानून का अनुपालन किया।

मुजम्मिल ने बताया कि मंगलवार सुबह उसे उसके फुआ के घर से हिरासत में लिया गया था। बार-बार यह पूछा जा रहा था कि शरजील कहां है। उसका कहना था कि शरजील से 25 जनवरी को उसकी बात हुई थी। वह पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण करना चाह रहा था, लेकिन एफआईआर की कॉपी नहीं रहने के कारण वह ऐसा नहीं कर सका। इसके लिए दिल्ली से निशिका और अहमद अब्दुला दो अधिवक्ता आए। परिणामस्वरूप दोनों के समक्ष उसने अपने आपको पुलिस के सामने गिरफ्तारी दी। हालांकि, पुलिस उसे गिरफ्तार करने की बात कह रही है। 

 

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस